ईश्वरीय गुणों को स्थापित करने के लिए महर्षि ने लिखी रामायण : जगदगुरु - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Wednesday, January 12, 2022

ईश्वरीय गुणों को स्थापित करने के लिए महर्षि ने लिखी रामायण : जगदगुरु

14 जनवरी को जन्मोत्सव पर होगा कथा का सीधा प्रसारण

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। पद्मविभूषण जगद्गुरू रामानन्दाचार्य स्वामी रामभद्राचार्य का जन्मोत्सव उनके शिष्य धूमधाम से मनाते है। इस वर्ष कोरोना महामारी के प्रकोप को देखते हुए सीमित रखा गया है। प्रतिवर्ष होने वाली रामकथा के क्रम में कोविद-19 नियमों का पालन करते हुए मुंबई हाईकोर्ट के अधिवक्ता लालजी केवला प्रसाद त्रिपाठी की यजमानी में तुलसी पीठ के मानस हाल में वाल्मीकि रामायण पर आधारित रामकथा का शुभारंभ हुआ। 

जगदगुरु रामभद्राचार्य।

कथा के प्रथम दिन जगद्गुरू ने शास्त्रीय शैली में श्रद्धालुओं को रामकथा का रसपान कराया। सर्वप्रथम उन्होने ‘रामायण’ के सभी संभावित अर्थों का प्रतिपाद्य बताया। इसके बाद वर्तमान समय में रामकथा में विद्यमान विवादों को शमित करते हुए उन्होने श्रीराम को न केवल भगवान बल्कि ब्रह्म के स्वरूप में भी साबित किया। उन्होने ऐसे विद्वानों पर तार्किक हमला किया जो मानते हैं कि वाल्मीकि ने श्रीराम को महापुरुष के रूप में स्थापित किया है न कि भगवान के रूप में। महर्षि वाल्मीकि के श्लोकों के माध्यम से जगद्गुरू ने सिद्ध किया कि महर्षि वाल्मीकि ने कथा का प्रारम्भ ही भगवान श्रीराम के स्वरूप के लिए किया है। साथ ही उन्होने बताया कि ईश्वर के गुण, ऐश्वर्य, समग्रता, धर्म, यश, कीर्ति, ज्ञान, वैराग्य को स्थापित करने के लिए ही महर्षि वाल्मीकि ने रामायण में छह कांडों का निर्माण किया।

प्रतिदिन सवेरे 10 से 2 बजे तक चलने वाली कथा के प्रथम दिन प्रस्तावना जगद्गुरू के उत्तराधिकारी आचार्य रामचन्द्र दास ने रखी। उन्होने रामकथा का सामाजिक महत्व बताने के साथ ही यजमानों का परिचय कराया। दो बजे व्यासपीठ की आरती के साथ ही कथा के प्रथम दिवस का समापन हुआ। अंत में आचार्य रामचन्द्र दास ने श्रद्धालुओं को संस्कार टीवी पर कथा के प्रसारण की जानकारी दी। 14 जनवरी से कथा का सीधा प्रसारण संस्कार टीवी पर प्रातः 10 बजे से किया जाएगा। इस दौरान जगद्गुरू के शिष्य आचार्य हिमांशु त्रिपाठी, मदनमोहन, आञ्जनेय, विनय, गोविंद, पूर्णेंदु आदि का सहयोग रहा। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages