किसानों ने डेढ़ सैकड़ा मवेशियों को मिनी सचिवालय में किया कैद - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Sunday, January 16, 2022

किसानों ने डेढ़ सैकड़ा मवेशियों को मिनी सचिवालय में किया कैद

अन्ना गोवंश से परेशान किसानों ने कहा : चुनाव का करेंगे बहिष्कार  

नरैनी, के एस दुबे । अन्ना गौवंश से परेशान किसानों ने डेढ़ सौ से अधिक जानवरो को गांव के मिनी सचिवालय (पंचायत भवन) में कैद कर दिया। किसानों ने कहा प्रशासन ने अगर इंतजाम न किया तो विधान सभा चुनाव का बहिष्कार करेंगे।

पंचायत भवन में कैद किए गए मवेशी

महुआ ब्लाक के रिसौरा गांव में रविवार की सुबह 9 बजे दर्जनों किसानों ने मिलकर करीब डेढ़ सौ से अधिक अन्ना गायो को हाक कर पंचायत भवन परिसर के अंदर कर दिया। नाराज किसानों ने कहा कि पांच वर्षों से लगातार शासन-प्रशासन से गांव में गौशाला बनवाने की मांग कर रहे हैं मुख्यमंत्री के पोर्टल 1076 में भी शिकायत दर्ज करा चुके हैं। अन्ना जानवरों का आज तक गांव में कोई इंतजाम नहीं किया गया। किसान मुनीम तिवारी, पप्पू, रमाशंकर गौतम, गणेशा कोरी, रामकिशुन यादव, शिवकांत शुक्ला, गंगा, राजकुमार अग्निहोत्री, कल्लू रुपौलिहा आदि ने बताया कि उनकी गेंहू की फसल अन्ना गायों ने चर डाली है। कहा कि भीषण ठंड में रात में खेतों में लगी फसल की रखवाली करते हैं। एक भी दिन चूक हो गई तो फसल चौपट हो जाती। तमाम किसानों ने एक स्वर से कहा कि गांव में गौशाला नही बनाई गई तो विधान सभा चुनाव में मतदान का बहिष्कार करेंगे।

सुबह से शाम हो गई लेकिन कोई अधिकारी या कर्मचारी मौके पर नही पहुंचा, जिससे भूखे प्यासे जानवर पूरे दिन पंचायत भवन में बन्द रहे। खण्ड विकास अधिकारी संजीव बघेल ने बताया कि उन्हें मामले की जानकारी है। सोमवार को जानवरों की व्यवस्था की जाएगी। बताया कि गौशाला बनाने के लिए गांव में कही जगह नहीं मिली है। यह जानकारी लेखपाल ने उन्हें दी है। किसानों से बात कर जमीन की तलाश कर रहे हैं। रिसौरा गांव में समाज सेवी अनंतराम त्रिपाठी ने अपनी जमीन में तारबाड़ी कर दो साल से अन्ना गौवंशो को चारा भूसा खिलाते हैं। घायल जानवरों का इलाज भी कराते हैं। इस गौशाला में एक माह पूर्व चारा भूसा की समस्या थी। यह खबर सुर्खियां बनीं तो मुख्य विकास अधिकारी और बीडीओ मौके पर पहुंचे थे और गांव के किसानों को गौशाला बनवाने का भरोसा दिया था, लेकिन आज तक गौशाला नही बनाई गई।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages