धान क्रय केन्द्रों में किसान हलाकान - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Sunday, January 9, 2022

धान क्रय केन्द्रों में किसान हलाकान

बारिश के बीच दिन रात कर रहे धान लदे ट्रालियों की रखवाली

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। बारिश तो बहाना है, लेकिन धान खरीद में किसान हलाकान है। गल्ला मंडी में खुले दो धान केंद्रों में लगभग 20 ट्राली धान लदा खड़ा है और किसान उसके बिकने के इंतजार में है। बारिश से बचाने के ट्रालियों में पन्नी की तिरपाल है। किसान रात-दिन उनकी रखवाली कर रहे हैं।

बुन्देली सेना के जिलाध्यक्ष अजीत सिंह ने बताया कि रविवार को मंडी की गोदामों से कोटे के खाद्यान्न की उठान हुई, लेकिन धान खरीद के लिए बारिश का बहाना है। गल्ला मंडी में बड़े-बड़े शेड हैं। उनमें भी खरीद की जा सकती है, लेकिन अधिकारी बेपरवाह हैं। बालापुर के किसान कुलदीप सिंह ने बताया कि तीन जनवरी से दो ट्राली धान लेकर पड़े हैं, लेकिन खरीद नहीं हो रही। रामपुर तरौंहा के किसान मनोज तो बीते 28 दिसम्बर से दो ट्राली धान के बिकने की राह देख रहे हैं। बसावनपुर के रामजी उपाध्याय चार जनवरी को दो ट्राली धान मंडी में बेचने आए थे,

सेंटर में बारिश के बीच धान लदे खड़े ट्रैक्टर।

लेकिन रविवार तक इंतजार की म्याद समाप्त नहीं हुई। इसी तरह सपहा समेंत कई अन्य गांवों के किसान धान बेंचने के लिए लाइन लगाए हैं। गल्ला मंडी में दो धान केंद्रों में लगभग 20 ट्राली धान लदा खड़ा है। बारिश में किसान रात दिन ट्रैक्टरों की रखवाली करने पर विवश हैं। विपणन निरीक्षक कर्वी रामछबीले ने बताया कि शेड में धान खरीदने की परमीशन नहीं है। बारिश के चलते छह जनवरी से धान खरीद बंद है। 10 हजार मीट्रिक टन अब तक खरीद हो चुकी है और 50 हजार मीट्रिक टन लक्ष्य निर्धारित है। किसानों की समस्या पर उन्होंने सोमवार को अधिकारियों से बात कर खरीद करने का आश्वासन दिया। बताया कि धान खरीद केंद्र कम खुले हैं। ऐसे में दिक्कतें आ रही हैं। बुन्देली सेना ने जिलाधिकारी से मांग की है कि जिले में धान खरीद केंद्रो की संख्या बढ़ाई जाए।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages