कोरोना के लक्षण युक्त व्यक्तियों की पहचान को अभियान शुरू - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Monday, January 24, 2022

कोरोना के लक्षण युक्त व्यक्तियों की पहचान को अभियान शुरू

3.39 लाख घरों में पहुंचेगी 620 टीमें, 29 तक चलेगा अभियान

टीकाकरण से वंचित बुजुर्गों व किशोरों को लगेंगे टीके

बच्चों व गर्भवती  के नियमित  टीकाकरण पर भी रहेगा फोकस  

बांदा, के एस दुबे । कोविड-19 से निपटने के लिए स्वास्थ्य विभाग युद्ध स्तर पर कार्य कर रहा है। जनपद में कोरोना संक्रमण को रोकने और टीके से वंचित लोगों को चिह्नित करने के लिए सोमवार से पल्स पोलियो अभियान की तर्ज पर विशेष अभियान शुरू किया गया है। इसके लिए जनपद में 620 टीमें और 191 सुपरवाइजर लगाए गए हैं। टीमें 3.39 लाख घरों में जाएंगी। यह अभियान 29 जनवरी तक चलेगा। 

कोरोना लक्षण युक्त व्यक्तियों से बात करतीं आंगनबाड़ी

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. एके श्रीवास्तव ने बताया कि टीमें घर-घर जाकर दो साल से कम उम्र के नियमित  टीके, गर्भवती  को लगने वाले टीके व कोविड टीके से वंचित बुजुर्गों को चिह्नित करेंगी। इसके साथ ही कोरोना के लक्षणों जुकाम, बुखार और खांसी से ग्रसित मरीजों की सूची भी तैयार की जा रही है। ग्रामीण क्षेत्रों की दो सदस्यीय टीम में आशा और आंगनबाड़ी कार्यकर्ता को शामिल किया गया है। कोविड के लक्षणयुक्त व्यक्तियों, नियमित टीकाकरण से वंचित दो वर्ष तक के बच्चों और 60 वर्ष से अधिक उम्र के कोविड टीके की पहली खुराक न प्राप्त करने वाले बुजुर्गों, 15 से 17 आयु वर्ग के कोविड टीके से वंचित बच्चों की सूची बनाकर टीकाकरण चिह्नित कर सूचीबद्ध किया जा रहा है। सीएमओ ने बताया कि कोरोना लक्षण वाले लोगों को मौके पर ही टीम मेडिकल किट उपलब्ध करा  रही है। 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस का राष्ट्रीय अवकाश होने पर यह अभियान नहीं चलेगा। 

लक्षण वाले मरीजों को कोविड जांच केंद्रों पर भेजेंगे

बांदा। जिला क्षय रोग अधिकारी डा. संजय कुमार शैवाल जीआर रत्मेले ने बताया कि कोरोना के लक्षण वाले जो भी लोग मिलेंगे, उन्हें मौके पर ही दवा किट देने के साथ ही जांच के लिए उन्हें नजदीक के कोरोना जांच सेंटर पर भेजा जाएगा। सर्वेक्षण के पूरा होने पर प्रत्येक घर जागरूकता के लिए स्वास्थ्य टीम पहुंचकर स्टीकर लगाएगी। सीवियर एक्यूट रेस्परेटरी इंफेक्शन का रोगी मिलने पर पल्स ऑक्सीमीटर से उसकी जांच कर तत्काल इसकी सूचना पर्यवेक्षक के माध्यम से संबंधित अधिकारी को दी जाएगी। जिले में रैपिड रिस्पांस टीम को तैयार रखा जाएगा, जिससे सूचना प्राप्त होते ही आवश्यक कार्रवाई की जा सके।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages