लोहड़ी 13 जनवरी - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Wednesday, January 12, 2022

लोहड़ी 13 जनवरी

लोहड़ी सिख/ पंजाबी समुदाय का  प्रमुख त्यौहार है मुरव्यता पंजाब, दिल्ली, हरियाणा एवं पड़ोसी राज्यों में मनाया जाता है। लोहड़ी मकर सक्रान्ति के पहले आता है।लोहड़ी का त्योहार फसलों की कटाई पर प्रकृति को धन्यवाद देने के लिए मनाया जाता है। लोहड़ी के लिये लकड़ियों की ढेरी पर सूखे उपले भी रखकर संध्या को जलाकर समूह के साथ तिल, गुड़, रेवड़ी, मूंगफली, खील, मक्की के दाने की पवित्र अग्नि की  परिक्रमा करते हु्ए लोग आग में आहुति देते है जिससे दुःखों पापों का नाश होता है। आग सेकते हुए रेवड़ी, खील, गजक, मक्का खाने का आनन्द लेते है।

ढोल की ढाप पर गिद्दा एवं भागड़ा नृत्य एवं गायन इस अवसर पर करते है। इसका संबंध मनन्त है जिस घर में नई बहू आती है और घर में संतान का जन्म हुआ होता है उस परिवार में बहुत धूम-धाम से लोहड़ी मनाते हैं सगे संबंधी एक-दूसरे को लोहड़ी की बधाई देते है


लोहड़ी की लोक-कथा- एक  समय सुन्दरी और मुदंरी नाम की दो अनाथ कन्यायंे थी जिनको उनके चाचा शादी न करके एक राजा को भंेट करना चाहता था। उस समय दुल्ला भट्टी नाम का एक नामी डाकू था। उसने इन कन्याओं की मद्द करी और लड़के वालों को मनाकर जंगल में आग जलाकर सुन्दरी और मुदंरी कन्याओं का विवाह करवाया। दुल्ला भट्टी ने शादी कराकर शगुन के तौर पर कन्याओं की झोली में शक्कर डालकर विदा किया। इस तरह एक डाकू ने निर्धन कन्याओं के लिये पिता की भूमिका निभाई।
कुछ लोगों के अनुसार लोहड़ी शब्द की उतपत्ति संत कबीर की पत्नी लोई के नाम से हुई हैं तो कुछ लोग तिलोड़ी नाम से उत्पन्न हुआ मानते हैं जिसे बाद मे लोहड़ी कहा जाने लगा।

- ज्योतिषाचार्य एस0एस0 नागपाल , स्वास्तिक ज्योतिष केन्द्र, अलीगंज, लखनऊ

--

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages