प्रभु यीशू के जन्मदिन पर गूंजी जिंगल बेल की गूंज - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Saturday, December 25, 2021

प्रभु यीशू के जन्मदिन पर गूंजी जिंगल बेल की गूंज

प्रार्थना सभा में गिरजाघरों में उमड़ी भीड़ 

फतेहपुर, शमशाद खान । प्रभु यीशू का जन्मदिन जनपद में बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। इसाई समुदाय के घरों में गजब का उल्लास देखने को मिला। सुबह आठ बजे ही गिरजाघरों की घंटियां घनघना उठीं। प्रार्थना सभा में सभी महिलाओं, बच्चों समेत घर का प्रत्येक सदस्य हिस्सेदारी निभाने को पहुॅचा। शहर के देवीगंज स्थित प्रेस बिटीरियन चर्च एवं हरिहरगंज के ईसीआई चर्च में मसीही समुदाय के लोगों के साथ-साथ अन्य समुदाय के महिलाओं एवं बच्चों ने प्रार्थना सभा में शामिल होकर खुदा के बेटे से दया और करूणा की कामना किया। प्रार्थना सभा के बाद बच्चों ने रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत कर सभी लोगों को क्रिसमस डे की बधाई दिया। जिंगल बेल जिंगल बेल की धुन में बच्चों के बीच सेंटा क्लाज आए और बच्चे भी पीछे-पीछे हो लिए। सभी बच्चों को सेंटा क्लाज ने टॉफी, चाकलेट एवं उपहार बांटे। 

प्रार्थना सभा में भाग लेते फादर एवं ईसाई समुदाय के लोग।

मानव समाज में फैली अशांति और वैमनस्यता को कम करने सबके बीच सद्भाव और संभाव का प्रसार करने के लिए सबको पापों से बचाने के खातिर ही सजावट के साथ प्रार्थना सभाओं का आयोजन हुआ। देवीगंज स्थित इंडियन प्रेस बिटेरियन चर्च व कृष्णा कालोनी स्थित ईसीआई चर्च में सुबह से ही चहल-पहल थी। साफ-सफाई कर सजावट की गई थी। दोपहर में फादर की अगुवाई में अनुयाईयों ने प्रार्थना सभा की। फादर पास्टर विमल कुमार ढिल्लू ने आज का दिन धन्य बताया। श्री पास्टर ने प्रभु यीशू के सात अंतिम उपदेशों पर गहराई से प्रकाश डालते हुए बलिदान के प्रति प्रभु को धन्यवाद दिया। उन्होने उपस्थित अनुयाईयों से कहा कि परमेश्वर के बेटे के दिखाए गए रास्ते पर चलकर ही सच्ची सुख शांति पाई जा सकती है और जीवन को पापों से बचाकर अच्छाई की ओर ले जाया जा सकता है। चर्च की सेक्रेटरी जौली गिड़ियन दत्ता ने सभी का धन्यवाद ज्ञापित किया। इस मौके पर विजय लाल, सुशील लाल, बबीता लाल, गीता प्रसाद आदि शामिल रहे। उधर घर-घर भी क्रिसमस की धूम रही। अन्य समुदाय के बच्चों ने भी सेंटाक्लाज की वेशभूषा धारण कर एक-दूसरे को क्रिसमस की बधाई दी। सोशल मीडिया पर भी दिन भर बधाईयों का सिलसिला जारी रहा। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages