जीएसटी की दर बढ़ाने से छोटे व्यापारी होंगे बर्बाद - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Tuesday, December 21, 2021

जीएसटी की दर बढ़ाने से छोटे व्यापारी होंगे बर्बाद

सपा व्यापार सभा ने वित्त मंत्री को ज्ञापन भेजकर निर्णय वापस लेने की उठाई मांग 

फतेहपुर, शमशाद खान । जनवरी 2022 से कपड़े व जूते चप्पल के साथ ईट उद्योग पर जीएसटी पांच फीसद से बढ़ाकर 12 प्रतिशत करने के केंद्र सरकार के फैसले के विरोध में समाजवादी पार्टी व्यापार सभा ने वित्त मंत्री को ज्ञापन भेजते हुए जीएसटी की दर बढ़ाने के निर्णय को वापस लेने की मांग किया।

मंगलवार को समाजवादी पार्टी व्यापार सभा के बैनर तले जिलाध्यक्ष बृजेश सोनी की अध्यक्षता में संगठन के कार्यकर्ताओ एव व्यापारियों ने देश के वित्त मंत्री को सम्बोधित ज्ञापन जिलाधिकारी के माध्यम से भेजते हुए समाज

एसडीएम को ज्ञापन सौंपते सपा व्यापार सभा के पदाधिकारी।

के कमज़ोर आये वाले लोगो, छोटे व मंझोले व्यापारियों की समस्याओं को देखते हुए जीएसटी की दर बढ़ाने के निर्णय को वापस लिए जाने की मांग किया। उप जिलाधिकारी को ज्ञापन देते हुए जिलाध्यक्ष बृजेश सोनी ने बताया कि नोटबन्दी व उसके बाद कोरोना महामारी के दौरान लोगो की आय में कमी आयी है। ऐसे में फूट वेयर उद्योग, कपड़े व ईट उद्योग में जीएसटी दर को पांच फीसदी से बढ़ाकर 12 फीसद करने से सीधे गरीब तबके, मध्यम वर्ग पर सहनीय भार पड़ेगा कपड़े, कंबल, पर्दे, जूते चप्पल से जुड़े व्यापारियों के लिये नियम काल साबित होगा। कमज़ोर तबके वाले लोगो ले द्वारा खरीदी जाने वाली वस्तुएं महंगी हो जायेगी वही ब्रांडेड कम्पनियों को इसका लाभ मिलेगा। कम पैसों में गुज़र बसर करने वाले लोगो के समाने महंगा समान लेना परेशानी बनेगा इससे लोगो के सामने बड़ी समस्या खड़ी हो जायेगी। उंन्होने कहा कि केंद्र की भाजपा सरकार को व्यापारियों के कच्चे माल पर की बढ़ी हुई दरों को कम करने के लिए राहत देनी चाहिए थी लेकिन उन्हें राहत नहीं दी गई बल्कि जीएसटी की दरें बढ़ाकर आम आदमी के लिए मंहगाई को बढ़ाया जा रहा है जिसका समाजवादी पार्टी विरोध करती हैं। उन्होने कहा कि ईट उद्योग पर टैक्स बढ़ाने से प्रति ट्राली एक हज़ार रुपये का इजाफा होगा। दाम बढ़ने से गरीब तबके को सर छुपाने के लिये सहारा बनाने से रोका जा रहा है। उन्होने छोटे व्यापारियों एवं आम जनमानस की समस्याओं को देखते हुए जीएसटी की दरें बढ़ाने के निर्णय को वापस लेने की मांग किया। इस मौके पर अनुराग तिवारी, समी अहमद खान, मोनू गुप्ता, जय प्रकाश वैश्य, मो अलीम, अमित सोनी, अनीस समेत बड़ी संख्या में व्यापारी मौजूद रहे।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages