सीडीएस जनरल बिपिन रावत अजर अमर रहेंगे ............. - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Friday, December 10, 2021

सीडीएस जनरल बिपिन रावत अजर अमर रहेंगे .............

 हम देश के गौरव देश की शान आज 

देवेश प्रताप सिंह राठौर...........

जनरल बिपिन रावत हमारे सबके बीच नहीं है परंतु वह हमेशा अमर रहेंगे जब तक दुनिया में एक भी मानव रहेगा बिपिन रावत का नाम सदा अमर रहेगा और एक ऐसे जनरल के रूप में हमारे बिपिन रावत जिस तरह से आकस्मिक एक हेलीकॉप्टर दुर्घटना में मृत्यु हुई  जनरल बिपिन रावत के साथ ही उनकी पत्नी मधुलिका रावत भी मौजूद थीं.मधुलिका रावत की बीएफ दुर्घटना में मृत्यु हो गई बहुत ही दुखद समाचार है देश अभी समझ नहीं पा रहा है सह नहीं पा रहा है आखिर यह सब अचानक कैसे हो गया अपने चहेते बिपिन रावत आज नहीं है यह क्या हुआ  कभी किसी ने नहीं सोचा था हमारा जनरल सीडीएस हमें इतनी जल्दी छोड़ कर चला जाएगा हम उन तमाम शहीदों को जो उस हेलीकॉप्टर में शहीद हुए हैं उनको शत-शत नमन चरणों पर सर रखकर करते हैं और बिपिन


रावत को कुछ समय पहले तक लोग थलसेना के 27वें प्रमुख के रूप देश जानता था पर अब वे इस पद से रिटायर्ड हो चुके है. उन्हें इससे भी बड़ा पद संभालने के लिए मिला है और भारतीय इतिहास में ऐसा पहली बार हो रहा है। बिपिन रावत को देश का पहला सी डी एस अधिकारी यानि चीफ ऑफ़ डिफेन्स स्टाफ बनाया गया है।यह पद आज से पहले किसी को नहीं मिला है. सी डी एस का काम है थलसेना, वायुसेना और नौसेना तीनो के बीच तालमेल बैठाना सीधे शब्दों में कहूँ तो यह रक्षा मंत्री के प्रमुख सलाहकारों में शामिल है और वे तींनो सेनाओं को निर्देश देंगे, हालाँकि इनका काम किसी भी सैन्य एक्टिविटी में दखल देना नहीं है।यह सिर्फ तीनो सेनाओं के बिच तालमेल बैठाने का काम करेंगेहालही में बिपिन रावत जी तमिलनाडु के कुन्नूर अपनी पत्नी के साथ हेलीकाप्टर में जा रहे थे, लेकिन उनका हेलिकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त हो गया तथा उनकी  पत्नी की भी मृत्यु हो गई, बड़े दुख का विषय है आज बिपिन रावत जी की दो बेटियों के ऊपर मां बाप का साया छिन गया ईश्वर हिम्मत प्रदान करें उन्हें   बिपिन रावत के जीवन के बारें में कुछ लिखने का प्रयास कर रहा हूं देश के पहले सीडीएस जनरल बिपिन रावत भले ही दुखद हादसे में दुनिया को अलविदा कह गए हैं, लेकिन उनका योगदान हमेशा स्मरण रहेगा। सैनिक पिता की संतान रहे जनरल बिपिन रावत को उत्कृष्ट सैनिक के साथ ही बड़े रणनीतिकार के तौर पर भी याद किया जाएगा। 2017 में आर्मी चीफ रहते हुए जब उन्हों देश के ढाई मोर्चे के युद्ध के लिए तैयार होने की बात कही थी तो हर कोई हैरान था कि यह आधा मोर्चा क्या है। दरअसल उन्होंने एक मोर्चा पाकिस्तान को माना तो दूसरा चीन को और आधा मोर्चे की बात उन्होंने देश में आंतरिक संघर्ष और आतंकवाद को माना था। सैन्य रणनीति के महारथी जनरल रावत के ऐसे ही कुछ बयानों को हमेशा याद किया जाएगा।इसी साल मई में चीन से चल रहे सीमा विवाद को लेकर जनरल

बिपिन रावत ने कहा था, 'हम सभी को यह समझना होगा कि किस तरह की मुश्किल चीन और पाकिस्तान सीमा पर है। ऐसे मुद्दों को रातोंरात नहीं सुलझाया जा सकता है और यह भी नहीं कह सकते कि ये कब तक हल हो जाएंगे। मैं यही कह सकता हूं इन मसलों को हल करने के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं और कोशिश है कि आपसी सहमति से ही इन्हें सुलझाया जाए। जब हम अपनी सीमाओं के मुद्दे हल करते हैं तो कोई भी देश रणनीतिक बढ़त नहीं खोना चाहता। सरकार जिस तरह से चाहेगी, उसी तरह से सीमा के मसले हल होते हैं। हमें यह भी सोचना होगा कि दुश्मन कैसे सीमा विवाद का हल चाहता है। हम किसी भी ग्राउंड पर पीछे हटना स्वीकार नहीं कर सकते। इसलिए हम डटे हुए हैं।2017 में आर्मी चीफ रहे जनरल बिपिन रावत ने ढाई मोर्चे की जंग के लिए देश के तैयार रहने की बात कही थी। उन्होंने ढाई मोर्चे की बात कहकर पाकिस्तान, चीन और आंतरिक संघर्ष की चुनौतियों का जिक्र किया था। इसमें खासतौर पर कश्मीर का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा था कि जल्दी ही यहां हालात सामान्य हो सकेंगे। रायसीना डायलॉग में बोलते हुए जनरल बिपिन रावत ने कश्मीर में आतंकवाद का जिक्र करते हुए कहा था कि छोटे बच्चों को रैडिकलाइज किया जा रहा है। उन्होंने कहा था, 'मैं नहीं मानता कि रैडिकलाइजेशन से मुकाबला नहीं किया जा सकता। जो भी चीज शुरू होती है, उसका अंत भी तय है। रैडिकलाइजेशन से निपटा जा सकता है। इसके लिए आपको वहां नजर रखनी होगी, जहां यह हो रहा है। कौन लोग इस काम को अंजाम दे रहे हैं? यह काम स्कूलों, यूनिवर्सिटी, धार्मिक स्थानों में हो रहा है। कुछ लोगों का समूह है, जो इस कट्टरता को फैला रहा है।'इंडिया इकनॉमिक कॉन्क्लेव में बोलते हुए इसी साल मार्च में जनरल बिपिन रावत ने सीमाओं पर इन्फ्रास्ट्रक्चर डिवेलपमेंट को लेकर बड़ी बात कही थी। उन्होंने कहा था कि सीमाओं पर ढांचागत विकास के मामले में हम अगले 3 से 4 साल में ही चीन की बराबरी पर होंगे। उनका कहना था कि आज हम उस गति से काम कर रहे हैं, जितनी स्पीड हमारे प्रतिद्वंद्वी की है। अभी हमने उनकी बराबरी नहीं की है, लेकिन अब ज्यादा समय नहीं लगेगा।जनरल बिपिन रावत ने सितंबर 2019 में सेना प्रमुख के कार्यकाल के दौरान पीओके को लेकर भी अहम टिप्पणी की थी। सर्जिकल स्ट्राइक के बाद चर्चा में आए रावत ने कहा था कि सेनाएं पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में भी ऐक्शन के लिए हमेशा तैयार हैं। उनका कहना था सेना हमेशा तैयार है। इसके लिए साथ ही उन्होंने यह भी स्पष्ट किया था कि इसका फैसला तो सरकार को ही लेना है। बिपिन रावत भारत का सबका प्रिय चल रहा को नम आंखों से सत सत बार नमन करते हैं और उनके चरणों पर सर रखकर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages