पशुपालन व डेयरी फर्मिंग कर बने आत्मनिर्भर - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Wednesday, December 15, 2021

पशुपालन व डेयरी फर्मिंग कर बने आत्मनिर्भर

फतेहपुर, शमशाद खान । लाभकारी पशुपालन एवं डेयरी प्रबंधन से किसानों की क्षमता विकास योजनांतर्गत डेयरी फार्मिंग विषय पर तीन दिवसीय प्रशिक्षण का शुभारंभ मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डॉ. आरडी अहिरवार ने मां सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्जवलन कर किया। 

मुख्य अतिथि व अतिथियों ने आत्मनिर्भर भारत के तहत पशुपालन डेयरी फार्मिंग की पुस्तक का विमोचन किया। तकनीकी सत्र के प्रथम दिवस डॉ. देवेंद्र स्वरूप पशु वैज्ञानिक कार्यक्रम संयोजक ने डेयरी फार्मिंग एक सशक्त माध्यम तथा मुख्य गोवंश व भैंस की जातियों तथा प्रबंधन पर चर्चा किया। प्रसार वैज्ञानिक डॉ. नौशाद आलम ने पशुधन उत्पाद से मृदा स्वास्थ्य संवर्धन व जैविक कृषि पर अपना व्याख्यान दिया। वैज्ञानिक डॉ. जगदीश किशोर ने

प्रशिक्षण को संबोधित करते प्रसार वैज्ञानिक डा. नौशाद आलम।

पशुधन के साथ मशरूम व मौन पालन तथा आय संवर्धन पर चर्चा किया। कार्यक्रम सहायक गृह विज्ञान डॉ अलका कटिहार ने स्वच्छ गुड उत्पादन के साथ दूध के गुणवत्ता युक्त पदार्थ छेना, पनीर आदि पर विस्तृत चर्चा की। मुख्य अतिथि मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डॉ. अहिरवार ने अनुरोध किया कि समय पर कृमि नाशक देने से पशु स्वस्थ रहता है एवं लागत घट जाती है। प्रज्ञा ग्रामोत्थान समिति के सचिव उमेश चंद्र शुक्ला ने स्वयं सहायता समूह के सफल संचालन व व्यवसाय पर चर्चा किया। उप मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डॉ एसके तिवारी ने प्रमुख बीमारियों रोग प्रबंधन, टीकाकरण तथा विभागीय योजनाओं के साथ पशुधन किसान क्रेडिट कार्ड के लाभ एवं गौ संवर्धन पर विस्तृत चर्चा किया। प्रशिक्षण में हसवा, बहुआ, मिटौरा ब्लाक के स्वयं सहायता समूह के 50 प्रतिभागियों ने प्रशिक्षण लिया।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages