विद्यालय में बंद किए गए दर्जनो अन्ना गौवंश - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Saturday, December 11, 2021

विद्यालय में बंद किए गए दर्जनो अन्ना गौवंश

प्रभावित हुआ शिक्षण कार्य, एडीओ पंचायत के आश्वासन पर शांत हुए आक्रोशित किसान

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। तहसील क्षेत्र में अन्ना गौवंशों के चलते किसान भुखमरी की कगार पर खड़ा है। रबी की फसले नष्ट हो रही है। ऐसे में किसानों में भारी आक्रोश व्याप्त है। किसानों ने विद्यालय में लगभग एक सैकड़ा अन्ना गौवंशो को पकड़कर बंद कर दिया। जिससे शिक्षण कार्य ठप हो गया। यह सूचना मिलते ही तहसीलदार रामकेवल त्रिपाठी मौके पर पहुंचे, लेकिन किसान नहीं माने। बाद में एडीओ पंचायत, सचिव ने आश्वासन देकर गौवंशों को गौशाला में संरक्षित कराया है।

शनिवार को ग्राम कलवलिया के मजरा पटवरिया के गुस्साए किसानों ने उच्च विद्यालय में लगभग एक सैकड़ा अन्ना गौवंशों को बाड़ लगाकर बंद कर दिया। जिससे शिक्षण कार्य प्रभावित हुआ। करीब एक दशक से दैवीय आपदाओं से किसान परेशान रहा है, लेकिन दो तीन वर्षों से राजापुर तहसील क्षेत्र में अन्ना गौवंशों की भरमार हो गई

विद्यालय में कैद अन्ना जानवर।

है। जिससे रवि फसलें पूरी तरह चौपट हो रही हैं। खेतों में ठूंठ ही दिखाई पड़ते हैं। खेतों की दुर्दशा से किसान प्रदेश सरकार सहित प्रशासन, ग्राम प्रधान, सचिव को अवगत कराते आए हैं। बावजूद इसके लचर कार्यशैली के चलते किसानों को अन्ना गौवंशों से आज तक निजात नहीं मिल सकी। फसल बरबादी पर कोसते नजर आते हैं। राजापुर से सटे ग्राम पंचायत महुआ गांव, पटवरिया, सरधुवा, बरद्वारा, बक्टा, बिहरवां, नैनी आदि तिरहार क्षेत्र के गांवों में अन्ना गौवंशों को गौशाला में संरक्षित करने की औपचारिकताएं ही की जाती हैं। गौशाला के फर्जी आकड़े प्रशासन को भेजकर गुमराह करते हैं। गौशालाओं के चरवाहे जब गौवंशों को चराने के लिए ले जाते हैं तो आधे से अधिक जानवरों को छोंड़कर शेष गौवंशों को गौशालाओं में बन्द कर देते हैं। जिससे कम जानवरों को चारा भूसा देना पड़े। गांव के जियालाल ने बताया कि रात में छोड़े गए जानवर फसलों को चट कर रहे हैं। किसान पूरी रात अपने खेतों की रखवाली के लिए जागता है। बावजूद इसके फसलें नहीं बच पाती हैं। इसी प्रकार प्रताप प्रजापति ने बताया कि खरीफ की फसलें पूरी तरह से सड़ गई थीं। जिसका मुआयजा तक किसानों को नहीं दिया गया है। यदि गौशालाओं की यही स्थिति बनी रही तो रबी की फसल को भी अन्ना गौवंश नष्ट कर देंगें। प्राप्त जानकारी के अनुसार लगभग चार बजे तहसीलदार रामकेवल त्रिपाठी, एडीओ पंचायत रामरूप सिंह, सचिव घनश्याम शुक्ला मौके पर पहुंचकर ग्रामीणों को समझाया। प्रधान सावित्री देवी को निर्देश दिए गए की गौशाला से कोई भी अन्ना गौवंशों को छोड़ा नहीं जाएगा। यदि कोई भी गोवंश रात में छोड़े गए तो चौकीदार के खिलाफ कानूनी कार्यवाही होगी। गौशाला के चारों तरफ कटीली तारे तुरंत लगवा दी गई है। इस पर मामला शांत हुआ और विद्यालय से गौवंशों को हटाकर गौशाला भेजा गया है।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages