कुछ राज्यों के चुनाव है, ओमिक्रोन का प्रकोप अधिक होगा...................... - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Thursday, December 23, 2021

कुछ राज्यों के चुनाव है, ओमिक्रोन का प्रकोप अधिक होगा......................

देवेश प्रताप सिंह राठौर 

(वरिष्ठ पत्रकार)

.........................  देश में ओमिक्रोन का खतरा लगातार बढ़ता जा रहा है। ताजा खबर यह है कि भारत में ओमिक्रोन मरीजों की संख्या 300 के पार पहुंच गई है। महाराष्ट्र एक बार फिर लिस्ट में शीर्ष पर पहुंच गया है। तमिलनाडु में एक साथ कई मरीज सामने आए हैं।  केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, करीब 90 मरीज ठीक हो चुके हैं। वहीं वैज्ञानिकों का अनुमान है कि भारत में ओमिक्रोन के केस फरवरी 2022 में पीक पर होंगे। यानि इसके बाद यह वैरिएंट भी धीरे-धीरे खत्म होने लगेगा। तब तक लोगों को कोरोना नियमों का पालन करने के लिए कहा गया है। भीड़ से दूर रहें। मास्क जरूर लगाएं। शीरीरिक दूरी का पालन करें। बाहर से घर या ऑफिस में आएं तो सैनिटाइजर का उपयोग जरूर करें। स्थिति गंभीर होती जा रही है 2 दिसंबर को भारत में पहला केस मुंबई में मिला था और आज 300 के ऊपर  के मरीज  ओमिक्रोन  के पहुंच चुके हैं। मैंने जहां जहां जाकर कुछ जिलों में स्थित को देखा जिला प्रशासन को देखा कोई भी किसी जिले में लगभग इस तरह का वातावरण बना हुआ


है जैसे कोरोनाओमिक्रोन कुछ रहा ही नहीं है। ना कहीं पर कोई टोकने वाला है ना सोशल डिस्टेंस है ना मास्क है भीड़ इतनी है बाजारों में हर स्थानों पर कि आपको एहसास होगा की जैसे कोई चिंता ही नहीं किसी को और किसी से कहो कोरोना के नियमों का पालन करो झगड़ा करने को तैयार हो जाते हैं लोग और जहां पर सुरक्षा लगी हुई है पुलिस है वह भी कान में तेल डाले बैठे हैं किसी से नहीं कहते हैं वो कहते भी हैं तो मुझे लगा है पालन भी नहीं कर रहे हैं इसके लिए शक्ति की जरूरत है जुर्माने की जरूरत है नियमों को तोड़ने वालों पर जब तक इस चीज का एहसास नहीं कराया जाएगाओमिक्रोन का तीसरी लहर बहुत शीघ्र भारत में खेलेगी और कुछ राज्यों में चुनाव हैं ऐसे में चुनाव होना और वैज्ञानिकों ने संकेत दिए हैं फरवरी मेंओमिक्रोन का पिक समय होगा भारत में इसलिए खतरा बहुत है खतरे को समझने वाले बहुत कम है कोई भी व्यक्ति नियम का पालन नहीं कर रहा है मैं हर बार लिखता हूं 2 गज दूरी मास्क जरूरी परंतु 2 गज दूरी संभव नहीं है यह सिर्फ लिखने और कहने में ही अच्छा लगता है परंतु 2 गज दूरी ना रखें 1 गज ही रखें और मास्क लगाएं सभी लोग नियमों का पालन करें तो मैं समझूंगा यह भी बहुत बड़ी लोगों की समझदारी होगी परंतु ऐसा दिखता नहीं है जैसे आप देखते हैं सिगरेट में पान बीड़ी तंबाकू में लिखा रहता है ।धूम्रपान करना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है कैंसर को जन्म देता है फिर भी लोग इस्तेमाल करते हैं, सरकार अपने काम कर रही है उसने लिखवा दिया है कि यह लिखो इसकी समझ में आए खाए जिसकी समझ में ना खाएं परंतु उसको लोग इस्तेमाल करते हैं कोई भी उसे नहीं पड़ता है ना उसकी वार्निंग को देखता है। इसी प्रकार आज का जो  कोरोना का जो स्लोगन बना है 2 गज दूरी मास्क जरूरी यह सिर्फ टेलीविजन और रेडियो में ही सुनने में अच्छा लगता है। जमीनी हकीकत में इसका पालन दूर-दूर तक जिले के आला अधिकारी के कार्यालय से लेकर सार्वजनिक स्थानों को देखा जा सकता है एवं मार्केट में  कितना पालन हो रहा है जहां पर पूरा जिले के आला अधिकारी बैठे हैं वहां पालन नहीं हो रहा  है। अन्य स्थानों पर पालन करना बड़ा कठिन समस्या है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages