चारों ओर से खुला है जिला अस्पताल की मर्च्युरी - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Thursday, December 30, 2021

चारों ओर से खुला है जिला अस्पताल की मर्च्युरी

खिड़की में जाली तक नहीं लगी, फ्रीजर कई महीनों से खराब 

बांदा, के एस दुबे । जिला अस्पताल का मर्च्युरी हाउस का फ्रीजर कई वर्ष से खराब पड़ा हुआ है। इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा। इतना ही नहीं शव की सुरक्षा व्यवस्था के भी कोई इंतजाम नहीं है। मर्च्युरी के अंदर शव को सीमेंटेड पट्टी में ही रख दिया जाता है। पीछे लगी खिड़की में भी न जाल है और न शीशा। कभी भी लाश गायब हो सकती है। जिला अस्पताल के जिम्मेदार इस ओर कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं। 

जिला अस्पताल की मर्च्युरी हाउस में कई वर्ष पहले शव को सड़ने से बचाने के लिए एक सीटर फ्रीजर लगाया गया था। फ्रीजर लगाने के बाद कुछ ही दिन में वह धड़ाम हो गया। किसी भी जिम्मेदार ने इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया। गर्मी के दिनों में एक्सीडेंट या मारपीट से अकाल मौत का शिकार होने वाले लोगों के शवों को मर्च्युरी हाउस

जिला अस्पताल की मर्च्युरी हाउस में खराब पड़ा फ्रीजर



में रखवाया जाता है। सुबह होने पर शव से दुर्गंध उठने लगती है। तीमारदार शव को सड़ने से बचाने के लिए बर्फ आदि रखने का इंतजाम करते हैं। जबकि एक सीटर फ्रीजर में सिर्फ एक ही शव रखा जाता है। बाकी अन्य शवों को मर्च्युरी हाउस में बनी सीमेंट की पट्टी में रख दिया जाता है। शव की सुरक्षा व्यवस्था के कोई इंतजाम नहीं हैं। बड़ी आसानी से जंगली जानवर मर्च्युरी हाउस के अंदर घुसकर शव को क्षत-विक्षत कर सकते हैं। मर्च्युरी हाउस में लगी खिड़की में न तो जाली नहीं है। ऐसी स्थिति में कभी भी शव मर्च्युरी हाउस से गायब होने का अंदेशा बना रहता है। इतना ही नहीं मर्च्युरी हाउस की साफ-सफाई, धुलाई भी कभी नहीं की जाती। यहां के स्वीपर और सुपरवाइजर इस ओर कोई ध्यान नहीं देते। लाश निकालने के लिए तीमारदारों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। इस संबंध में सीएमएस एसएन मिश्रा का कहना है कि वह फ्रीजर को जल्द ही दुरुस्त कराएंगे। खिड़की दरवाजों की भी मरम्मत कराई जाएगी। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages