कड़ाके की ठंड में खाद के लिए पसीना बहा रहे किसान - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Tuesday, December 21, 2021

कड़ाके की ठंड में खाद के लिए पसीना बहा रहे किसान

सहकारी समितियों में खाद के लिए लग रही लंबी लाइन 

पुलिस के साए में किया जा रहा खाद का वितरण  

बबेरू, के एस दुबे । खाद के लिए किसान सुबह से सहकारी समितियों में लाइन लगाए खडे रहे। किसानों के तेवर भांप कर समिति के अधिकारी पुलिस के साये में खाद का वितरण किया। फिर भी गिने चुने किसानों को खाद मिलने हंगामा करते रहे। सरकार के विरूद्व नारेबाजी कर आक्रोश व्यक्त किया।

कृषक मध्य सहकारी समिति बबेरू में रात से किसानों ने डेरा डाले पडे रहे और सुबह से हजारों की संख्या में लाइन लगाकर खडे हो गए। किसानों की भारी संख्या देकर समिति के अधिकारी खाद वितरण करने का साहस नही कर पाए। कोतवाली पुलिस से खाद वितरण के लिए पुलिस की मद्द मांगी। पुलिस के साये में समिति के अधिकारियों ने खाद का वितरण किया। लेकिन गिने चुने किसानों को खाद मिल पाई। समिति के सहायक

खाद के लिए इस तरह उमड़ रही भीड़

अधिकारी ने बताया कि एक ट्रक खाद शानिवार को आयी थी। दूसरा ट्रक की खाद नही आ पायी है। जैसे ही खाद आ जाएगी। दूसरे दिन वितरण की जाएगी। डेढ हजार से अधिक किसानों में मात्र दो सौ किसानों को खाद वितरण होने से किसान भडक गए। सरकार विरोधी नारेबाजी करते रहे। वही एडीसीओं से बातचीत की गई तो उन्होने बताया कि खाद पर्याप्त मात्रा में है। जैसे खाद पहुंचाई जाएगी और खातेदारों समेत अन्य किसानों को भी वितरण कराया जाएगा। वही किसानों ने आरोप लगाया कि चीन्ह चीन्ह कर अधिकारी कर्मचारी खाद का वितरण करते है। और रात को महंगे दामों में बेंच कर अपनी जेब भर रहे है। खेत पलेवा किए पडे है। यूरिया खाद के बिना बुवाई के किए बिना खेत परती पडे रह जाएगे। अधिकारी जानबूझकर सरकार की छवि धूमिल करने में लगे है। खाद की डिमांड नही भेज रहे है। जिससे किसान खेतों की बुवाई के लिए परेशान है। और रोजाना समितियों चक्कर लगा रहे है। राजराज, कैलाश, राममूरत, शिवमोहन, घनश्याम सिंह ने कहा कि समितियों के अधिकारी आवश्यकता अनुसार खाद नही मंगवा रहे है। सिर्फ रेवडी की तरह गिने चुने किसानों को बांट कर सरकार की छिछालेदर करने में जुटे है। अभी सिंचाई के बाद खाद की बहुत जरूरत पडेगी। किसानों ने खाद सभी समितियों में पहुंचाकर वितरण कराने की गुहार लगाई है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages