सुलह-समझौते के आधार पर 26547 मामले निस्तारित - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Monday, December 13, 2021

सुलह-समझौते के आधार पर 26547 मामले निस्तारित

मुख्यालय और तहसील मुख्यालयों में हुआ लोक अदालत का आयोजन  

बांदा, के एस दुबे । शनिवार को मुख्यालय और तहसील मुख्यालयों में राष्ट्रीय लोग अदालत का आयोजन किया गया। अध्यक्षता जनपद न्यायाधीश गजेंद्र कुमार ने की। लोक अदालत में कुल 58720 वाद निस्तारण के लिए नियत किए गए। इनमें से कुल 26547 वाद सुलह-समझौते के आधार पर निस्तारित किए गए। कुल 1571090 रुपए अर्थदंड आरोपित किया गया। इसी तरह मोटर दुर्घटना वादो में ०1,25,67,000 रुपए अर्थदंड आरोपित किये गये। जिसमें कुल 26584 व्यक्ति विभिन्न वर्गों के लाभान्वित हुये। 

भ्रमण करते न्यायिक अधिकारी

जनपद न्यायाधीश गजेन्द्र कुमार ने कुल 19 वाद सुलह-समझौते के माध्यम से ०5000 रुपए अर्थदण्ड के साथ निस्तारित किये। नीरज कुमार प्रधान न्यायाधीश  परिवार न्यायालय ने पारिवारिक वादों से संबंधित 83 वाद निस्तारित करते हुये 83 जोड़ों को न्यायालय द्वारा विदा किया। धर्मेन्द्र कुमार पाण्डेय पीठासीन अधिकारी मोटर दुर्घटना दावा अधिकरण ने 44 वाद निस्तारित करते हुए 1,25,67,000 रुपए बीमा कम्पनियों द्वारा पीड़ित पक्षों को दिलाया। अशरफ अंसारी प्रथम अपर जिला जज द्वारा 03 वाद निस्तारित किये गये। बलराज सिंह अपर जिला जज एससीएसटी द्वारा 03 वाद निस्तारित किये गये। कमरुज्जमा खान अपर जिला जज द्वारा 05 वाद निस्तारित किये गये। अनु सक्सेना अपर जिला जज पाक्सो द्वारा कुल 05 वाद निस्तारित किये गये। 3000 अर्थदण्ड आरोपित किये गये। इसी तरह श्रीमती नुपुर अपर जिला जज ईसी एक्ट , बांदा द्वारा कुल 70 विद्युत अधिनियम से सम्बन्धित वाद निस्तारित किये। ऋषि कुमार त्वरित न्यायाधीश, प्रथम द्वारा 68 वाद निस्तारण किए गए। भारतेन्दु प्रकाश गुप्ता मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट द्वारा सर्वाधिक 1025 वाद निस्तारित करते हुये  ०328990 रुपए अर्थदण्ड आरोपित किया गया। नदीम अनवर सिविल जज सीडि. द्वारा कुल 44 बाद निस्तारित किये गये, जिसमें उत्तराधिकार संबंधित 20 वाद तथा 04 दीवानी वाद व 20 लघु आपराधिक वाद निस्तारित करते हुये 04400 उत्तराधिकार प्रमाण पत्र जारी किये गये और 20863995 रुपए अर्थदण्ड आरोपित किया गया। प्रेम बहादुर सिंह अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट (रेलवे) द्वारा 212 वाद निस्तारित करते हुये 96030 रुपए  अर्थदण्ड आरोपित किया गया। श्रीमती गरिमा सिंह प्रथम अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट द्वारा कुल 154 वाद निस्तारित किये गये, जिसमें 1042500 रुपए अर्थदण्ड आरोपित किया गया। सौम्या मिश्रा अपर सिविल जज जूडि.  प्रथम, द्वारा कुल 08 सिविल वाद निस्तारित किये गये और रुपए 2900 का अर्थदण्ड वसूला गया। सुश्री शालिनी अपर सिविल जज जूडि द्वितीय, द्वारा 07 वाद निस्तारित किये गये तथा रुपए 1300 का अर्थदण्ड वसूला गया। सुश्री मनीषा साहू, सिविल जज जूडि एफटीसी प्रथम द्वारा कुल 13 वाद निस्तारित किये गये। रुपए 1400 का अर्थदण्ड वसूला गया। सुश्री कंचन सिविल जज जूडि एफटीसी, द्वारा कुल 06 वाद सुलह-समझौते के माध्यम से निस्तारित किये गये और ०1600 का अर्थदण्ड वसूला गया। नितिन सिंह सिविल जज अतर्रा द्वारा 48 वाद निस्तारित करते हुए ०74570 रुपए अर्थदंड आरोपित किया गया। सौरभ आनन्द सिविल जज बबेरु द्वारा 28 वाद निस्तारित किए गए। रामकिशोर तिवारी, विशेष न्यायिक मजिस्ट्रेट द्वारा कुल 29 वाद निस्तारित किये गये जिसमें एनआईएक्ट से संबंधित वादों में रुपए 6739551 वसूले गये। तूफानी प्रसाद अध्यक्ष जिला उपभोक्ता फोरम द्वारा कुल 62 वाद निस्तारित करते हुए रुपए 3367624 पक्षकारों को दिलाया गया। राजस्व विभाग के सभी न्यायालयों द्वारा कुल 24083 वाद निस्तारित किये गये। केन कैनाल बांदा के 02 वाद निस्तारित किये गये। बैंक द्वारा कुल 349 वादों का निस्तारण सुलह-समझौते के आधार पर किया गया, इसमें रुपए 4,57,83,435 रुपये पक्षकारों द्वारा वसूल किये गये। साथ ही बीएसएनएल के 245 वाद निस्तारित किए गए। लोक अदालत उद्घाटन समारोह में एजाज अहमद अध्यक्ष तथा सत्यदेव त्रिपाठी सचिव जिला अधिवक्ता संघ मौजूद रहे। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages