लौह पुरुष की 15 दिसंबर पुण्यतिथि .............. - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Wednesday, December 15, 2021

लौह पुरुष की 15 दिसंबर पुण्यतिथि ..............

देवेश प्रताप सिंह राठौर 

(वरिष्ठ पत्रकार)

........ आज सरदार वल्लभभाई पटेल लोह पुरुष की पुण्यतिथि है लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल को देश का हर नागरिक उनसे बेहद प्यार करता है ।कहीं देश के पहले प्रधानमंत्री लौह पुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल होते तो आज भारत में जो कश्मीर की आग लगी है, तो इसे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुझाने का कार्य किया है यह शायद ना होता अगर लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल देश के प्रथम प्रधानमंत्री हुए होते देश का हर सच्चा नागरिक सच्चा देश भक्ति उनकी पुण्यतिथि पर उन्हें पुष्प अर्पित करता है।भारतीय स्वतंत्रता सेनानी सरदार वल्लभ भाई पटेल की आज 15 दिसंबर 2021 को 146वीं पूण्यतिथि मनाई जा रही है। 31 अक्टूबर 1875 को गुजरात में हुआ। देश के प्रति उनके प्यार और समर्पण के कारण उन्हें लोग लोहा पुरुष के नाम से भी जानते हैं। सरदार पटेल की पुण्यतिथि पर पूरा देश उन्हें याद कर रहा है। स्कूल कॉलेज आदि में सरदार वल्लभ भाई पटेल पर निबंध


प्रतियोगिता का आयोजन किया जाता है। ऐसे में यदि आपको भी सरदार वल्लभ भाई पटेल पर निबंध लिखना है तो यह लेख आपकी मदद करेगा। आइये जानते हैं सरदार वल्लभ भाई पटेल पर निबंध हिंदी में कैसे लिखें।सरदार वल्लभ भाई पटेल का जन्म गुजरात के एक छोटे से गाँव नडियाद में हुआ था। भारत के लौह पुरुष का जन्म 31 अक्टूबर 1875 को हुआ था। सरदार वल्लभभाई पटेल का जन्म शहर में रहने वाले लेउवा पटेल पाटीदार समुदाय में हुआ था। स्वतंत्रता सेनानी का नाम सरदार वल्लभ भाई पटेल नहीं है। सरदार वल्लभ भाई पटेल का असली नाम वल्लभाई झावेरभाई पटेल है। बाद में लोग सरदार वल्लभ भाई पटेल के नाम से पुकारने लगे। सरदार वल्लभ भाई पटेल के पिता झवेरभाई पटेल झांसी की सेना की रानी में थे। उनकी मां लाडबाई का रुझान आध्यात्मिकता से था। बचपन से ही सरदार वल्लभभाई एक बहादुर और साहसी व्यक्ति थे। एक कहानी है कि कैसे उन्होंने एक फोड़े का इलाज किया, एक दर्दनाक। उन्होंने इसे बिना किसी संदेह के और गर्म लोहे की छड़ से प्रबंधित किया।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages