नहीं मिला न्याय, बेटे की अस्थियां लेकर अनशन पर बैठे माता-पिता - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Tuesday, November 23, 2021

नहीं मिला न्याय, बेटे की अस्थियां लेकर अनशन पर बैठे माता-पिता

राजनैतिक दलों ने भी किया अनशन का समर्थन 

पुलिसिया कारगुजारी पर उठ रहीं उंगलियां 

बांदा, के एस दुबे । अमन त्रिपाठी हत्याकांड में पुलिस ने जो किया, वह किसी से छिपा नहीं है। जमकर लीपापोती हुई। फिर चाहे वह हत्याकांड को आत्महत्या का रूप देने की बात रही हो या फिर आरोपियों को छुट्टा छोड़ देने की पुलिसिया जिद। खानापूरी करने के लिए पुलिस ने जांच भी कराई, लेकिन उसकी जानकारी परिजनों तक को देना मुनासिब नहीं समझा। मृतक के माता-पिता लगातार पुलिस अधिकारियों से फरियाद करते रहे, लेकिन अब भी

बेटे की अस्थियां लेकर अनशन पर बैठे संजय त्रिपाठी व उनकी पत्नी मधु

हत्यारोपियों को पकड़ा नहीं जा रहा। मंगलवार को हत्याकांड की सीबीआई जांच कराने और हत्यारोपियों को गिरफ्तार किए जाने और न्याय दिलाए जाने की मांग को लेकर इकलौते पुत्र अमन की अस्थियां लेकर अशोक लाट तले माता-पिता अनशन पर बैठ गए हैं। उनका कहना है कि जब तक न्याय नहीं मिलेगा, वह संघर्ष करेंगे। न्याय मिलने के बाद ही अस्थियां विसर्जित की जाएंगी। 

शहर के बंगालीपुरा मुहल्ला निवासी भाजपा नेता संजय त्रिपाठी के इकलौते पुत्र अमन त्रिपाठी की निर्मम तरीके से हत्या करने के बाद शव को केन नदी में फेंक दिया गया था। शव बरामद होने के बाद से ही पुलिस ने खादी से ताल्लुक रखने वाले कुछ लोगों के इशारे पर हत्याकांड की इस कदर लीपापोती की कि बयां कर पाना मुमकिन नहीं है। हत्या को आत्महत्या करार दिया जाता रहा, यहां तक कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत का कारण स्पष्ट न करते हुए बिसरा सुरक्षित कर लिया गया। बाद में हमीरपुर क्राइम ब्रांच की टीम ने जांच की, इसमें क्या नतीजा निकला, यह भी स्पष्ट नहीं किया गया। मृतक अमन के माता पिता डीआईजी, एसपी से मिले, लेकिन न्याय का आश्वासन ही दिया गया, लेकिन हुआ कुछ नहीं। डेढ़ महीना से ज्यादा का समय गुजर जाने के बाद जब न्याय नहीं मिला तो मंगलवार को मृतक अमन के पिता संजय और मां मधु त्रिपाठी बेटे की अस्थियां लेकर अशोक लाट तले अनशन पर बैठ गए हैं। उनका कहना है कि जब तक उन्हें न्याय नहीं मिलेगा वह अनशन करेंगे। न्याय मिलने के बाद ही वह अपने बेटे की अस्थियां विसर्जित करेंगे। गौरतलब हो कि अमन त्रिपाठी की हत्या के आरोपी अभी तक छुट्टा घूम रहे हैं। पुलिस उनकी गिरेबां पर हाथ डालने में पता नहीं क्यों कतरा रही है। चर्चाओं का दौर तो यहां तक है कि अमन के हत्यारोपियों को बचाने में कुछ खद्दरधारी लोगों का हाथ है, उन्हीं के इशारे पर इस मामले में जमकर लीपापोती की गई है। हालांकि अब न्याय के लिए संघर्ष करते हुए अमन के माता-पिता ने अनशन शुरू कर दिया है। देखना यह है कि उन्हें इंसाफ मिल पाता है या नहीं। अनशन स्थल पर समाजवादी पार्टी के पूर्व जिलाध्यक्ष शमीम बांदवी, पूर्व जिला उपाध्यक्ष सुशील त्रिवेदी, राष्ट्रीय विकलांग पार्टी के श्यामबाबू त्रिपाठी, आमिर खान, सुशील यादव, अभिषेक मिश्र, गीता त्रिपाठी, ब्राम्हण महासभा के अध्यक्ष जेपी त्रिपाठी, अशोक पालीवाल, अशोक तिवारी, निरंजन वाजपेयी, राजू द्विवेदी, विकास तिवारी, अभिषेक वाजपेयी, धीरू अग्निहोत्री के अलावा दर्जनों लोग मौजूद रहे। कहा कि अमन को न्याय दिलाने के लिए लड़ाई लड़ी जाएगी। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages