शादी में डीजे बजाना पड़ा महंगा, मौलाना ने निकाह कराने से किया मना - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Monday, November 29, 2021

शादी में डीजे बजाना पड़ा महंगा, मौलाना ने निकाह कराने से किया मना

बारातियों के माफी मांगने के बाद निकाह की रस्म हुई अदा 

गैर शरई रस्म रोकने पर ओलमा व मुहल्लेवासियों की शहरकाजी ने की तारीफ

फतेहपुर, शमशाद खान । गैर शरई रस्मों रिवाजों को खत्म करने के लिए उलेमा एकराम की पहल आखिरकार आज रंग लाई। जहानाबाद कस्बे से शहर के कबाड़ी मार्केट आई एक बारात में डीजे बजाना महंगा पड़ गया। मौलाना ने निकाह कराने से जब मना किया तो बारातियों के बीच खलबली मच गई। उलेमा एकराम व मुहल्लेवासियों ने बारातियों को समझाया कि गैर शरई रस्मों रिवाजां के बीच निकाह नहीं कराया जाएगा। तब जाकर बारातियों ने उलेमाओं से माफी मांगी तत्पश्चात निकाह की रस्म अदा की गई। इस मामले पर काजी-ए-शहर कारी फरीद उद्दीन ने उलेमाओं व मुहल्लेवासियों की तारीफ की। उन्होने कहा कि गैर शरई रस्मों के साथ निकाह पढ़ाने वालों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। 

काजी-ए-शहर कारी फरीद उद्दीन।

बतातें चलें कि शहर के कृष्ण बिहारी नगर कबाड़ी मार्केट निवासी अख्तर की पुत्री शबीना की आज शादी थी। बारात मो. हुसैन पुत्र मो. असलम निवासी वार्ड नं. 4 बंबा के पास जहानाबाद से कबाड़ी मार्केट आई थी। बारात में डीजे भी शामिल था। डीजे बजाने पर मुहल्ले के लोगों ने विरोध किया तो लड़ाई की नौबत आ गई। तब मुहल्ले के लोगों ने नूरी मस्जिद के पेश इमाम मौलाना नूरूल हसन को इसकी जानकारी दी। मौलाना नूरूल हसन अपने साथियों हाफिज जीशान, हाफिज जुनैद, हैदर व हाजी फरीद के साथ पहुंचे और लड़के वालों से जाकर बात की। उन्होने कहा कि शादी में डीजे बजाना हराम है और शरीयत के खिलाफ है। लड़के वालों ने गलती मानी और निकाह पढ़ाए जाने की इल्तिजा की। मांगी मांगने के बाद निकाह की रस्म अदा की की गई। इस पूरे मामले की जानकारी मौलाना नूरूल हसन ने शहरकाजी फरीद उद्दीन को दी। इस मामले पर शहरकाजी कारी फरीद उद्दीन कादरी ने गैर शरई रस्मों को रोकने में इन ओलमा एकराम व मुहल्ले के लोगों को बधाई व तारीफ की। उन्होने कहा कि जिस शादी में नांच, गाना, डीजे व गैर शरई रस्मों के साथ निकाह पढ़ाने वालों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होने कहा कि गैर शरई रस्मों को अब मुस्लिम समाज के लोग छोड़ने का काम करें। सादगी व हजरत मोहम्मद स.अ. की सुन्नत के बीच निकाह की रस्म अदा करें। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages