यातायात पुलिस वाहन चालान में मस्त, जाम से लोगो को निजात दिलाने में नाकाम - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Wednesday, November 10, 2021

यातायात पुलिस वाहन चालान में मस्त, जाम से लोगो को निजात दिलाने में नाकाम

मार्ग के चौड़ीकरण के बाद भी नही सुथरी ट्रैफिक व्यवस्था

फ़तेहपुर, शमशाद खान । नवम्बर माह कहने को तो यातायात माह के रूप  में मनाया जाता है। लेकिन सड़को पर लगने वाले जाम को देखकर न तो यातायात विभाग की सजगता दिखाई देती है न ही नवम्बर में यातायात माह के होने का महत्व ही नज़र आ रहा है। शहर के सभी मार्गा पर लगने वाले जाम से आम जनमानस परेशान नज़र आ रहा है जबकि ट्रैफिक व्यबस्था के ज़िम्मेदार यातायात को संभालने के नाम पर केवल वाहन चालान को ही अपनी डयूटी समझ रहे है।

वाहन चालान करते ट्रैफिक पुलिस व जाम में फसे वाहन।

यातायात को नियंत्रित करने के लिये पुलिस अधीक्षक राजेश कुमार सिंह द्वारा शहर के सभी चौराहो पर ट्रैफिक पुलिस के साथ होमगार्डों की तैनाती की गयी है। शहर की लगभग सभी सड़को के जाम वाले स्थानों को चिन्हित कर तैनाती की गयी है लेकिन यातायात को संभालने वाला विभाग सड़को पर लगने वाले जाम से बेखबर होकर केवल दो पहिया वाहनो की चालान में ही मसरूफ है। सड़को पर वाहनो के बढ़े हुए बोझ के अलावा आड़े तिरछे तरीके चलने वाले वाहनों के कारण शहर की शायद ही कोई सड़क हो जो जाम की स्थिति से अछूता हो। शहर के व्यस्ततम चौराहो में, सदर अस्पताल के निकट, बाकरगंज, ज्वालागंज बस स्टॉप, वर्मा तिराहा, आईटीआई रोड, पटेल नगर, देवीगंज, राधानगर, आदि जगह पर रोज-रोज़ लगने वाले जाम से आम जनमानस परेशान है। इन जगहों से अपने गंतव्यों को जाने वाले लोगो के अलावा स्कूली बच्चें को लाने व ले जाने वाली बसों, मरीज़ों को लेकर जाने वाली एम्बुलेंस भी मार्गा पर लगने वालों जाम के कारण रेंगने को मजबूर है और घण्टो बाद अपने जाम से जूझने के बाद अपनी मंज़िल तक पहुंच पाते है। वही दूसरी ओर यातायात का ज़िम्मा संभालने वाली ट्रैफिक पुलिस सड़को पर लगने वाले जाम पर आंख मूंदकर चौराहो के इर्द गिर्द वाहन चालान में ही मसरूफ दिखाई देती है। जाम की समस्या को लेकर पूर्व में समाजसेवियों द्वारा जिलाधिकारी से गुहार लगाई गई थी नगरवासियों की समस्याओ को देखते हुए तत्कालीन जिलाधिकारी रहे आंजनेय कुमार सिंह द्वारा सड़को से अवैध कब्जे हटवाते हुए मार्गा का चौड़ीकरण कराया गया था। मार्गा के चौड़ा होने के बाद भी यातायात पुलिस की उदासीनता से जाम की समस्या जस की तस नज़र आ रही है। वही लोगो की माने तो यातायात विभाग सड़को पर लगने वाले जाम की समस्या से आंख मूंदकर केवल वाहनो का चालान में मसरूफ रहती है। सड़को के दोनों ओर वाहनो को कतारों के लगने के बाद ही यातायात नियंत्रित करने वाले कर्मी नज़र आते है तब तक  भारी जाम लग चुका होता है। लोगो को सड़क से आने जाने में के लिये जाम में फंसने को मजबूर होना पड़ता है।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages