उर्वरकों के सत्यापन के लिए 29 केंद्रों पर छापेमारी - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Wednesday, November 3, 2021

उर्वरकों के सत्यापन के लिए 29 केंद्रों पर छापेमारी

दो बिक्री केंद्रों से नमूने भरे, एक विक्रेता को दी चेतावनी

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। जिला कृषि अधिकारी आरपी शुक्ला ने बताया कि उर्वरकों को पॉस मशीन के अनुसार भौतिक सत्यापन, जमाखोरी रोकने के लिए जिलाधिकारी शुभ्रान्त कुमार शुक्ल के निर्देश पर कृषि विभाग के उर्वरक निरीक्षक व अन्य विभागों के अधिकारियों की संयुक्त टीम गठित कर जिले के उर्वरक विक्रेताओं के 29 प्रतिष्ठानों पर छापेमारी की। जिसमें एक उर्वरक विक्रेता को पॉस मशीन के अनुसार उर्वरक की मात्रा न पाए जाने पर कारण बताओ नोटिस जारी की है। संदिग्ध उर्वरक के स्टॉक से कुल दो नमूने ग्रहीत किए गए हैं। जिन्हें परीक्षण के लिए प्रयोगशाला भेजा जाएगा। इस समय रबी फसलों की बुवाई चल रही है। जिससे फॉस्फोरसयुक्त उर्वरकों का किसानों द्वारा क्रय किया जा रहा है। किसानों को निर्धारित मूल्य पर डीएपी व अन्य उर्वरक उपलब्ध कराने के लिए व विक्रेताओं द्वारा खाद का अवैध भंडारण कर कृत्रिम अभाव पैदा करने, कालाबाजारी, ओवर रेटिंग, खाद के साथ अन्य उत्पादों की टैगिंग को रोकने के लिए शासन के निर्देश पर गठित जिला स्तरीय टीम ने चारों तहसीलों में सघन छापेमारी की। पीओएस मशीन से भौतिक स्टॉक का सत्यापन किया गया। जिन दुकानों पर कमी पाई गई, उनको अभिलेख अद्यावधिक रखने की हिदायत दी गई। विक्रेताओं को रेट बोर्ड लगाने, स्टॉक का प्रदर्शन, पीओएस मशीन के जरिए ही उर्वरक बिक्री के लिए निर्देशित किया गया है।

जांच करते अधिकारी।

जिले में है पर्याप्त डीएपी : डीएम

चित्रकूट। जनपद में डीएपी पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है। अभी 1006 मीट्रिक टन डीएपी की रैक प्राप्त हुई थी। जिसे सहकारी समितियों पर भेज दिया गया है। जहाँ से वितरण कराया जा रहा है। जल्द ही लगभग 550 मीट्रिक टन डीएपी फिर प्राप्त होगी। जिसे प्राथमिकता के आधार पर माँग के अनुरूप समितियों पर भेजा जाएगा। सभी किसान जरूरत के मुताबिक अपनी खतौनी व आधार दिखाकर  खाद ले जाकर दलहनी व तिलहनी फसलों की बुवाई के समय प्रयोग करें। चित्रकूट में अभी गेहूँ की बुवाई में लगभग 15-20 दिन का समय है। शासन से एक रैक डीएपी की माँग भेजी गई है। तब तक मिलने की संभावना है। जिसे समितियों व इफको के बिक्री केंद्रों के द्वारा किसानों को उपलब्ध कराया जाएगा।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages