कार्तिक पूर्णिमा ,श्री गुरू नानक जयन्ती देव दीपावली 19 नवम्बर - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Wednesday, November 17, 2021

कार्तिक पूर्णिमा ,श्री गुरू नानक जयन्ती देव दीपावली 19 नवम्बर

 19 नवम्बर को कार्तिक पूर्णिमा, श्री गुरू नानक जयन्ती है और राजस्थान में पुष्कर मेला भी इस दिन प्रारम्भ होगा। कार्तिक पूर्णिमा का विशेष महत्व है इस दिन भगवान विष्णु का प्रथम मत्स्यावतार हुआ था। इस दिन भगवान विष्णु का व्रत , पूजन और दान करने का विधान है। कार्तिक पूर्णिमा को गंगा स्नान एवं तीर्थ स्थान पर स्नान - दान का बड़ा महत्व है। गंगा स्नान कर  दान करने से अनन्त पुण्य फल की प्राप्ति होती है। सायंकाल दीपदान किया जाता है। इस वर्ष कार्तिक पूर्णिमा 18 नवम्बर को दिन में  12ः00 से प्रारम्भ होकर 19 नवम्बर को दिन में  02ः26 तक है।  
           हर साल दिवाली के 15 दिन बाद और कार्तिक मास की पूर्णिमा तिथि को देव दीपावली का त्योहार मनाया जाता है इस दिन वाराणसी में देव दिवाली के रूप में मनाया जाता है। भगवान शिव ने कार्तिक पूर्णिमा के दिन त्रिपुरासुर का वध किया था इसलिए देवताओं ने स्वर्ग में दीपक जलाए थे इस दिन को देव दीपावली के रूप में मनाया जाता है । इस दिन देवताओं का पृथ्वी पर आगमन होता है और उनके स्वागत में धरती पर दीप जलाये जाते  प्रातः गंगा में स्नान के बाद सांयकाल घाटों और मन्दिरों को दीये से सजाया जाता है।दीपक जलाने के साथ ही भगवान शिव के दर्शन करने और उनका अभिषेक करने की भी परंपरा है । ऐसा करने से व्यक्ति को ज्ञान और धन की प्राप्ति होती है। साथ ही स्वास्थ्य अच्छा रहता है और आयु में बढ़ोतरी होती है।

             

        गुरूनानक देवजी की जयन्ती कार्तिक पूर्णिमा को मनाई जाती है। इस वर्ष गुरुनानक देव जी की 552 वीं जन्म वर्षगांठ है गुरूनानक देवजी का जन्म कार्तिक पूर्णिमा को ननकाना साहिब में हुआ था। गुरू नानक देव जी सिखों के प्रथम गुरू और सिख धर्म के संस्थापक है। गुरू नानक जी समाजसुधारक, धर्मसुधारक, दार्शनिक और योगी थे। गुरू नानक देव जी ने देश के कई जगह यात्रायें करके साम्प्रदायिक सौहार्द का उपदेश दिया। जिनमें भारत, अफगानिस्तान, फारस और अरब के मुख्य मुख्य स्थानों का भ्रमण किया। जीवन के अन्तिम वर्षाे  में इन्होंने करतारपुर नामक एक नगर बसाया, जो कि अब पाकिस्तान में है और एक बड़ी धर्मशाला उसमें बनवाई। इसी स्थान पर 22 सितम्बर 1539 ईस्वी को इनका परलोक वास हुआ।

                - ज्योतिषाचार्य-एस.एस.नागपाल, स्वास्तिक ज्योतिष केन्द्र, अलीगंज, लखनऊ

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages