अलविदा जुमा में कोरोना के खात्में व सलामती की मांगी गयीं दुआएं - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Friday, May 7, 2021

अलविदा जुमा में कोरोना के खात्में व सलामती की मांगी गयीं दुआएं

सामाजिक दूरी का पालन कर अदा की नमाज 

फतेहपुर, शमशाद खान । कोरोना के कहर से एक बार फिर से देश व प्रदेश थर्रा रहा है। संक्रमण के कारण चारों ओर मौत का तांडव है। कोरोना महामारी के दौरान संक्रमण रोकथाम के लिये सरकार द्वारा लागू किये गये लॉकडाउन की बंदिशों के बीच पवित्र रमजान और अलविदा की नमाज अदा की गई। कोरोना को देखते हुए जिला प्रशासन की अपील पर जनपद की मस्जिद सैय्यद शाह सैदू चिश्ती मोहल्ला कजियाना, तकिया चांद शाह, लाला बाजार स्थित दलालों की मस्जिद, सैय्यदवाड़ा, पीरनपुर सहित सभी मस्जिदों में मुस्लिम समुदाय के लोगो में सीमित सँख्या में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर नमाज अदा की गयी। नमाज के बाद अल्लाह की बारगाह में मुल्क की बेहतरी तरक्की अमन व सलामती के साथ-साथ कोरोना महामारी को दूर करने की दुआयें मांगी गयी। बड़ी संख्या में मस्जिदों में नमाज पढ़ने से महरूम रहे लोगों ने घरो में ही जोहर की नमाज अदा की और कोरोना वबा को समाप्त करने के लिये अल्लाह से दुआएं मांगी। बीमारी से जूझ रहे लोगो को जल्द सेहतयाब होने की भी दुआ की गयी। 

 मस्जिद में सामाजिक दूरी का पालन कर नमाज अदा करते नजामी।

ज्ञात रहे कि कोरोना महामारी के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए सरकार द्वारा एक बार फिर से लॉकडाउन लगाकर बंदिश को लागू किया गया है। लॉकडाउन के आवश्यक वस्तुओं के अलवा दूध, फल, सब्जियों, किराना आदि की दुकानों को खोलने की सशर्त अनुमति दी गयी है। वहीं धर्मस्थलों को बन्द कर सीमित संख्या में लोगो को जाने की अनुमति दी गयी है। पवित्र माह रमजान में मुस्लिम समुदाय द्वारा अल्लाह की इबादत कर गुनाहों की माफी के लिये दुआयें की जाती है। लॉकडाउन के दौरान मस्जिदों में सीमित लोगों को इबादत की अनुमति के कारण जहा सोशल डिस्टेंसिंग के बीच सीमित संख्या में लोग नमाज अदा कर रहे हैं। वहीं रमजान का अंतिम शुक्रवार यानी अलविदा जुमा पर विशेष तोर पर एकत्र होकर नमाज अदा की जाती है। इस बार लॉकडाउन के दौरान अलविदा जुमा पड़ने पर अधिकतर मस्जिदंे खाली रहीं। सीमित सँख्या में नमाजियों को जाने की इजाजत की वजह से अधिकतर लोगों में घरो में ही नमाज अदा कर गुनाहों से तौबा कर मगफिरत की दुआएं की। देश की सलामती तरक्की बेहतरी आपसी सदभाव, भाईचारा मंजबूत करने के लिये भी दुआयें मांगी गयी।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages