आक्सीजन सिलेण्डर स्वयं लेकर मरीज पहुंच रहे जिला अस्पताल - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Friday, May 7, 2021

आक्सीजन सिलेण्डर स्वयं लेकर मरीज पहुंच रहे जिला अस्पताल

जिन्दगी बचाने की खातिर प्रशासन के दावों पर भरोसा नहीं कर रही जनता 

फतेहपुर, शमशाद खान । कोरोना महामारी की आपदा को शायद ही कोई व्यक्ति कभी भूल पायेगा। इस महामारी के बीच ऐसा माहौल पैदा हो गया है कि कोई भी व्यक्ति अब प्रशासनिक दावों पर भरोसा जताना नहीं चाहता। इसकी बानगी शुक्रवार की दोपहर देखने को मिली। पेट व स्वांस की बीमारी से जूझ रहा एक मरीज स्वयं आक्सीजन सिलेण्डर लेकर जिला चिकित्सालय पहंुचा। जहां परिजनों ने उन्हें भर्ती कराने का काम किया। ऐसे ही कई मरीज जिला चिकित्सालय में मौजूद हैं जो स्वयं का आक्सीजन सिलेण्डर लिये हुए हैं। जिन्दगी बचाने की खातिर प्रशासन के दावों पर अब कोई भरोसा नही करना चाहता। 

आक्सीजन सिलेण्डर लगाकर ई-रिक्शा से जिला अस्पताल जाता मरीज।

वर्ष 2019 में कोरोना महामारी देश में आयी थी लेकिन वर्ष 2020 में इसने पैर पसारते हुए काफी लोगों को अपनी चपेट में ले लिया था। कोरोना से बचाने की खातिर केन्द्र एवं प्रदेश सरकार ने तमाम प्रयास किये थे और लगभग तीन माह सम्पूर्ण लाकडाउन करके इसकी चेन को तोड़ने का काम किया था। काफी हद तक महामारी पर काबू भी पा लिया गया था लेकिन चालू वर्ष के मार्च माह में एक बार फिर कोरोना की रफ्तार में तेजी आयी और एकाएक हजारों की तादाद में प्रतिदिन मरीज सामने आने लगे। जिले की बात की जाये तो यहां भी प्रतिदिन आधा से एक सैकड़ा मरीज सामने आ रहे हैं। एकाएक कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ने से शासन एवं जिला प्रशासन सकते में आ गया और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने अधीनस्थों संग बैठक करके लाकडाउन लगाये जाने की घोषणा कर डाली। कोरोना महामारी के प्रकोप के बीच स्वास्थ्य सेवाएं भी ठप्प हो गयीं। जिससे अन्य बीमारियों से जूझ रहे मरीजों को भी जद्दोजहद का सामना करना पड़ रहा है। इतना ही नहीं महामारी के इस प्रकोप के बीच अब ज्यादातर मरीजों को स्वांस लेने की दिक्कत पैदा होने लगी है जिससे आक्सीजन सिलेण्डर की खपत बढ़ गयी है। आक्सीजन की मारामारी से भी जिला जूझ रहा है लेकिन अधिकारियों एवं जनप्रतिनिधियों का दावा है कि जिले में आक्सीजन की कोई कमी नहीं है। इन प्रशासनिक दावों पर अब जनता भरोसा नहीं करना चाहती। जिन मरीजों को स्वांस लेने की दिक्कत हो रही है उनके परिजन स्वयं आक्सीजन सिलेण्डर की व्यवस्था करके अपने मरीज को बचाने के प्रयासों में लगे हुए हैं। इतना ही नहीं कई मरीज को स्वयं का आक्सीजन सिलेण्डर लेकर अस्पताल भी पहुंच रहे हैं। इसकी एक बानगी शुक्रवार की दोपहर लगभग दो बजे देखने को मिली। ई-रिक्शा में सवार मरीज आक्सीजन सिलेण्डर लगाकर परिजनों संग जिला चिकित्सालय जा रहे थे। जब उनसे बात की गयी तो बताया कि उनका नाम सतीश चन्द्र श्रीवास्तव है और वह यूसुफजई मुहल्ले के रहने वाले हैं। उनको पेट सम्बन्धित समस्या थी और अब अचानक स्वांस लेने में भी दिक्कत होने लगी। इस पर परिजनों ने स्वयं आक्सीजन सिलेण्डर की व्यवस्था की है। अब वह जिला चिकित्सालय जा रहे हैं और वहीं भर्ती होकर अपना इलाज करायेंगे। इस तरह के पैदा होते हालात जिले के लिए अच्छे नहीं है। जनप्रतिनिधियों एवं जिला प्रशासन को जनता के बीच भरोसा पैदा करना होगा। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages