पतौरा गांव में विनीता ने दर्ज की शानदार जीत - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Sunday, May 2, 2021

पतौरा गांव में विनीता ने दर्ज की शानदार जीत

निकटतम प्रतिद्वन्दी उम्मीदवार साधना को 375 मतों से हराया 

बांदा, के एस दुबे । विकास खंड मुहआ ग्राम पंचायत में अपने प्रतिद्वंदी को 375 मतों से पटखनी देते हुए विनीता त्रिपाठी पत्नी ओमप्रकाश त्रिपाठी ने विजयश्री हासिल की। प्रतिद्वंदी साधना को 155 जबकि विनीता को जबरदस्त 530 वोट मिले। तीसरे नंबर पर रही वंदना त्रिपाठी को केवल 69 मतों पर ही संतोष करना पड़ा। ग्राम पंचायत


पतौरा में ग्राम प्रधान पद की सामान्य महिला सीट पर कुल 15 महिलाओं ने अपनी किस्मत आजमाने को नामांकन कराया था। शुरुआती दौर से ही लड़ाई तीन उम्मीदवारों के बीच होने से संघर्ष त्रिकोणीय हो गया था। 155 वोट लेकर दूसरे स्थान पर रहीं मुख्य प्रतिद्वन्दी साधना शुक्ला भाजपा महुआ मंडल अध्यक्ष रामकृष्ण शुक्ला की पत्नी हैं।
मतगणना स्थल का जायजा लेते एसपी सिद्धार्थ शंकर मीना 

इसी तरह मात्र 69 मत हासिल करने वाली तीसरे नंबर की प्रत्याशी वंदना त्रिपाठी पत्नी रामबाबू त्रिपाठी निवर्तमान जिला पंचायत सदस्य नीलम त्रिपाठी की जेठानी हैं। उन्होंने भी पूरी उम्मीद लगा रखी थी कि गांव की जनता में पकड़ होने से जीत उन्हीं को हासिल होगी, लेकिन पतौरा गांव की जनता ने आखिर तक अपने पत्ते नहीं खोले।
मतगणना स्थल का जायजा लेते जिलाधिकारी आनंद कुमार सिंह और एसपी 

सत्ताधारी दल से जुड़े होने के कारण उनके समर्थकों ने जीत के लिये सारे जतन किये, लेकिन गांव की जनता ने सत्ताधारी दल को दरकिनार करते हुए विनीता त्रिपाठी पर अपना विश्वास जताते हुए 375 मतों के भारी अंतर से बंपर जीत दिलाते हुए प्रधान पद का सेहरा उनके सिर बांध दिया। प्रधान पद विजयी हुईं विनीता त्रिपाठी के पति
मतगणना स्थल में प्रवेश से पूर्व एजेंट की तलाशी लेता पुलिस कर्मी

वरिष्ठ पत्रकार हैं, जो 2010 के पंचायत चुनाव में ग्राम प्रधान पद पर पहली बार विजयी हुए थे। एक पंचवर्षीय में उनकी सेवाओं को देखते हुए ग्रामीणों ने उन्हें दूसरी पंचवर्षीय में एक बार फिर से ग्राम प्रधान बनाने का मन बना लिया था, लेकिन वर्ष 2015 में ग्राम पंचायत पतौरा की सीट आरक्षित हो गई थी। इस बार जैसे ही यह सीट सामान्य महिला हुई तो गांव के लोगों ने पूर्व प्रधान श्री त्रिपाठी से संपर्क साधा और उन्हें प्रधान पद के लिये उनकी पत्नी विनीता की दावेदारी के लिये मना लिया। समर्थकों के साथ ग्रामीणों ने स्वयं विनीता त्रिपाठी के साथ खुलकर प्रचार किया और अंततरू उन्होंने अपनी प्रतिद्वन्दी उम्मीदवार साधना शुक्ला को भारी मतों से शिकस्त दी। चुनाव में एक बात और खास रही कि मतगणना के समय 94 वोट अनवैलेड हो गये जो विनीता त्रिपाठी के ही पक्ष में पड़े थे। यदि ऐसा न होता तो शायद जीत के मतों का अंतर पांच सैकड़ा भी पार कर जाता। उनके समर्थकों में जबरदस्त खुशी की लहर है।


मतगणना स्थल पर प्रवेश के पूर्व पुलिस ने ली तलाशी


कड़ी सुरक्षा के बीच हुई मतगणना 

- टेबलों के आसपास नजर आई कोविड नियमों की अनदेखी 

बांदा। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की मतगणना रविवार को सुबह आठ बजे से सभी ब्लाकों में शुरू हुई। कड़े सुरक्षा प्रबंधों के बीच मतपेटियों को स्ट्रांग रूम से निकालने के बाद अलग-अलग पदों के मत पत्रों को कार्मिकों द्वारा बंडल बनाए गए। न्याय पंचायतवार वोटों की गिनती की गई। एक न्याय पंचायत में मतगणना के लिए चार टेबलों की व्यवस्था की गई थी। 284 टेबलों पर वोटों की गिनती की गई। तमाम हिदायतों के बावजूद कोविड नियमों की जमकर अनदेखी हुई। परिणाम जानने के लिए लोगों ने तमाम जुगाड़ भी लगाए। 

मतगणना कर्मी की स्क्रीनिंग करते हुए

मतगणना के लिए जिला निर्वाचन अधिकारी के द्वारा पहले से ही पूरा खाका तैयार कर लिया गया था। तय समय में सुबह आठ बजे से नरैनी ब्लाक में राजकुमार इंटर कालेज में मतगणना के लिए 52 टेबलों पर 13 न्याय पंचायतों की मतों की गिनती शुरू की गई। बड़ोखर खुर्द ब्लाक की मतगणना राजा देवी डिग्री कालेज में, तिंदवारी ब्लाक की मतगणना सत्यनारायण इंटर कालेज, महुआ ब्लाक की पंडित जेएन इंटर कालेज गिरवां में वोटों की गिनती शुरू
महिला मतगणना कर्मी का बैग चेक करती पुलिस कर्मी

की गई। जबकि जसपुरा ब्लाक की मधुसूदन इंटर कालेज, कमासिन ब्लाक की मतगणना पंडित केदारनाथ राजाराम महाविद्यालय में की गई। बबेरू ब्लाक की मतगणना ज्वाला प्रसाद इंटर कालेज में और बिसंडा ब्लाक के वोटों की गिनती आदर्श इंटर कालेज में शुरू की गई। जिले की कुल 71 न्याय पंचायतों के लिए 284 टेबल लगाई गई थीं। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages