ग्रामीण क्षेत्रों में लक्षणयुक्त व्यक्तियों की निगरानी को शुरू हुआ अभियान - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Wednesday, May 5, 2021

ग्रामीण क्षेत्रों में लक्षणयुक्त व्यक्तियों की निगरानी को शुरू हुआ अभियान

जनपद में लगीं 1500 टीम, हर टीम पर रोजाना 40 घरों का जिम्मा

सर्दी जुकाम, खांसी, बुखार आदि होने पर दी जा रही मेडिसिन किट 

बांदा, के एस दुबे । जनपद में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने बुधवार से विशेष अभियान चलाकर घर-घर लोगों की निगरानी शुरू की है। यह अभियान नौ  मई चलेगा। हर एक आशा कार्यकर्ता  को रोजाना 40 घरों में स्क्रीनिंग और लक्षणयुक्त रोगियों की पहचान का जिम्मा सौंपा गया है। सर्दी जुकाम, खांसी, बुखार इत्यादि लक्षण मिलने पर मरीजों को मेडिकल किट उपलब्ध कराई जा रही है। अभियान में जनपद में 1500 टीम लगाई गई हैं। 

 घर-घर भ्रमण के दौरान जानकारी देती आशा कार्यकत्री

ग्रामीण क्षेत्रों में संक्रमण तेजी से फैल रहा है। ग्रामीण बड़ी संख्या में कोरोना पाजिटिव हो रहे हैं। लोगों के स्वास्थ्य को देखते हुए ग्रामीण क्षेत्र में विशेष अभियान बुधवार से शुरू किया गया है। प्रत्येक निगरानी टीम में आशा कार्यकर्ता के साथ आंगनबाड़ी या शिक्षक की ड्यूटी लगाई गई है। यह टीम प्रत्येक घर में मौजूद सभी सदस्यों की स्क्रीनिंग कर रही हैं। लोगों से बातचीत कर सर्दी, जुकाम, बुखार, खांसी से पीड़ित मरीजों को मेडिकल किट सौंपी जा रही है। किट के साथ दिए जा रहे पर्चे में दवाइयों के सेवन का तरीका व दिन लिखा हुआ है, ताकि लोगों को दवा के सेवन  में कोई दिक्कत न हो। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. एनडी शर्मा ने बताया कि गृह भ्रमण के दौरान मिलने वाले लक्षणयुक्त लोगों की सूची भी बनाई जा रही है। आशा यह सूची संबंधित प्रभारी चिकित्साधिकारी को उपलब्ध कराएंगी, ताकि सूची में दर्ज लोगों की विशेष निगरानी की जा सके। उन्होंने बताया कि लक्षणयुक्त व्यक्तियों को मेडिकल किट के साथ एंटीजन टेस्ट भी कराया जाएगा। इसकी भी जिम्मेदारी आशा कार्यकर्ताओं पर है। 

सफाई, दवाई और कढ़ाई का दे रहे संदेश 

बांदा। जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा. एमसी पाल ने कहा कि कोरोना के बारे में जागरूकता के साथ-साथ ’सफाई भी, दवाई भी, कड़ाई  भी’ एवं दो गज दूरी - मास्क है जरूरी का संदेश दिया जा रहा है। उन्होंने बताया कि टीमों को निर्देश दिया गया है कि ग्रामीण क्षेत्र में कोई भी घर न छूटे। लक्षणयुक्त व्यक्ति मिलने पर तत्काल दवा मुहैया कराई जाए। प्रभारी चिकित्सा अधिकारी आवश्यक सामग्री सैनिटाइजर, मास्क, दस्ताने इत्यादि टीमों को उपलब्ध कराएंगे। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages