कोरोना संक्रमित की मौत पर एल-2 हास्पिटल में हंगामा व तोड़फोड़ - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Monday, May 3, 2021

कोरोना संक्रमित की मौत पर एल-2 हास्पिटल में हंगामा व तोड़फोड़

चिकित्सकीय स्टाफ को पीटा, मौके पर पहुंचे एसडीएम 

परिजनों ने लापरवाही का मढ़ा आरोप

फतेहपुर, शमशाद खान । खागा तहसील क्षेत्र के मंझिलगांव स्थित इलाहाबाद इंजीनियरिंग कालेज में बनाये गये कोविड एल-2 हास्पिटल में आज उस समय हंगामा व तोड़फोड़ हो गयी जब एक कोरोना संक्रमित महिला की इजाज के दौरान मौत हो गयी। परिजनों के साथ-साथ वहां भर्ती अन्य मरीजों ने हास्पिटल स्टाफ पर जहां लापरवाही का आरोप मढ़ा वहीं आक्सीजन की कमी से मरीज की मौत होने की बात बतायी। घटना की जानकारी मिलने पर उप जिलाधिकारी सदर प्रमोद झा मौके पर पहुंचे और उन्होने परिजनों को समझाने का प्रयास किया। अस्पताल स्टाफ ने उनके साथ मारपीट करने का जहां आरोप लगाया वहीं परिजनों ने कहा कि मारपीट की सीसीटीवी के जरिये जांच करायी जा सकती है। उनके द्वारा सिर्फ हंगामा किया गया है मारपीट नहीं की गयी। 

कोविड एल-2 हास्पिटल के बाहर हंगामा करते परिजन एवं अस्पताल में टूटा पड़ा कांच।

बताते चलें कि सुल्तानपुर घोष थाना क्षेत्र के सेमरी गांव निवासी संदीप सिंह की पत्नी नीलू सिंह कोरोना संक्रमित हो गयी थी। जिन्हें इलाज के लिए इलाहाबाद इंजीनियरिंग कालेज स्थित कोविड एल-2 हास्पिटल में भर्ती कराया गया था। जहां उनका उपचार चल रहा था। उपचार के दौरान सोमवार की सुबह उनकी मौत हो गयी। मौत होते ही परिजनों के बीच चीत्कार का माहौल शुरू हो गया। वहां भर्ती अन्य कोविड मरीजों में भी इसकी नाराजगी देखी गयी। परिजनों व अन्य मरीजों ने वहां हंगामा शुरू कर दिया। चिकित्सकीय स्टाफ ने जब समझाने का प्रयास किया तो परिजनों ने तोड़फोड़ शुरू कर दी। जिससे वहां मौजूद कर्मचारियों के बीच हड़कम्प मच गया। तभी इसकी जानकारी जिला प्रशासन को दी गयी। जानकारी मिलते ही उप जिलाधिकारी सदर प्रमोद झा मौके पर पहुंचे और परिजनों को समझाने का प्रयास किया। चिकित्सकीय स्टाफ ने आरोप लगाया कि परिजनों ने हंगामा करने के साथ-साथ उनके साथ अभद्रता व मारपीट की घटना को अंजाम दिया है। परिजनों ने इस आरोप को नकारते हुए कहा कि उनके द्वारा मारपीट नहीं की गयी। इसकी जांच सीसीटीवी के जरिये कराई जा सकती है। परिजनों का कहना रहा कि महिला मरीज की मौत से उनके अंदर आक्रोश जरूर है। परिजनों ने आरोप लगाया कि कोविड अस्पताल में संक्रमितो के जीवन के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। बताया कि 24 घण्टे से सेन्टर में अभी तक कोई भी जिम्मेदार चिकित्सकीय स्टाफ नहीं आया। सीएमओ के बावजूद डा. राजीव तिवारी, डा. गुप्ता व डा. सक्सेना अब तक सेंटर नहीं आये हैं। संक्रमितो की देखरेख स्वयं तीमारदार करने को विवश हैं। जबकि आदेश है कि कोविड सेन्टर के अन्दर कोई भी तीमारदार प्रवेश नहीं करेगा। इसके बावजूद तीमारदारों को मजबूरीवश अपने मरीज की सेवा करनी पड़ रही है। बताया कि आक्सीजन सिलेण्डर में भी घपलेबाजी हो रही है। जब मरीज की हालत बिगड़ी थी तो हेल्पलाइन नम्बर पर इसकी सूचना देकर आक्सीजन सिलेण्डर मुहैया कराने की मांग की गयी थी। लेकिन आक्सीजन सिलेण्डर नही आया। मृतका के ससुर ने बताया कि उन्होने किसी तरह आक्सीजन की व्यवस्था की थी। लेकिन यहां आक्सीजन लगाने वाला तक मौजूद नहीं था। जिसके चलते उनकी बहू की मौत हो गयी है। परिजनों का आरोप है कि हालात यही रहे तो तीमारदार भी संक्रमित हो जायेंगे। उप जिलाधिकारी ने मामले की जांच कराकर कार्रवाई किये जाने का आश्वासन दिया है। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages