मतपेटियो में कैद प्रत्याशियों की किस्मत - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Tuesday, April 20, 2021

मतपेटियो में कैद प्रत्याशियों की किस्मत

शाम पांच बजे तक 55.93 फीसदी हुआ मतदान

मतदान प्रक्रिया शुरू होने के बाद प्रधान प्रत्याशी की मृत्यु

कई बूथों में देरी से शुरू हुई वोटिंग

आईजी, डीएम, एसपी, प्रेक्षक ने बूथों का किया निरीक्षण

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के मतदान में सोशल डिस्टेंसिंग के विपरीत लोगों ने मतों का प्रयोग किया। पुरुषों के अलावा महिलाओं ने भी जमकर वोट डाले। कुछ स्थानों पर मतदान प्रक्रिया देर से शुरू होने की सूचनाएं मिली हैं। एक गांव के प्रधान प्रत्याशी की मृत्यु हो गई। कुछ बूथो में नोकझोक के मामले में भी प्रकाश में आए हैं। 6669 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला मतपेटियों में बंद हो गया है।

मतदान को खड़ी महिलाएं

सोमवार को जिले की 331 ग्राम पंचायतों में सवेरे सात बजे से वोटिंग का सिलसिला शुरू हुआ जो शाम छह बजे तक चलता रहा। छह बजे के बाद आने वाले मतदाताओं को वापस होना पड़ा। नौ बजे तक हुई वोटिंग का प्रतिशत 9.12 था। धीरे-धीरे मतदाता बूथों की ओर बढ़ने लगे। अपरान्ह तीन बजे तक 43.37 प्रतिशत मतदान हुआ।
निरीक्षण करते आईजी

आईजी के. सत्यनारायण ने भरतकूप क्षेत्र के बीहड़ व संवेदनशील क्षेत्र के खम्हरिया आदि गांवों में जाकर मतदान प्रक्रिया का जायजा लिया। प्रेक्षक बृजकिशोर, जिलाधिकारी शुभ्रांत कुमार शुक्ल, पुलिस अधीक्षक अंकित मित्तल, सीडीओ अमित आसेरी मतदान केन्द्रों का निरीक्षण किया है। ग्रामीणों व कर्मचारियों से चुनाव में किसी प्रकार की
मत डालतीं मतदाता

कोई समस्या के बारे में जानकारी की। ग्राम सरकार के चुनाव में महिलाओं ने भी बढ़चढ कर भागीदारी लेते हुए मत का प्रयोग किया। बुजुर्ग लोग भी सहारे के साथ बूथो तक पहुंचे। इस बार के चुनाव में युवाओं में खासा उत्साह दिखा। अन्य प्रांतों से लौटे लोगों ने मतदान किया। कई बूथों पर सोशल डिस्टेंसिंग नजर नहीं आया। कोतवाली कर्वी
ठेलिया में बुजुर्ग को ले जाता सहयोगी।

क्षेत्र के रेहुंटिया गांव के प्रधान पद के प्रत्याशी अवधेश कुमार का मतदान प्रक्रिया शुरू होने के बाद निधन हो गया। जिसके चलते मतदान प्रक्रिया नहीं रोकी गई। प्रत्याशी के मृत्यु का कारण स्पष्ट नहीं हो सका। शाम पांच बजे तक 55.93 फीसदी मतदान के साथ डीडीसी, बीडीसी, प्रधान, व ग्राम पंचायत सदस्य के 6669 प्रत्याशियों का भाग्य वैलेट बाक्स में कैद हो चुका है।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages