गुटखा व्यापारियों व दुकानदारों ने ढूढ़ लिया आपदा में अवसर - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Thursday, April 22, 2021

गुटखा व्यापारियों व दुकानदारों ने ढूढ़ लिया आपदा में अवसर

सभी कम्पनियों के गुटखों में आयी किल्लत, ग्राहकों की जेब में डाल रहे डाका

विभागीय अधिकारियों द्वारा क्यों नहीं की जा रही कार्रवाई? 

फतेहपुर, शमशाद खान । वैश्विक महामारी कोरोना में जब देश की अर्थव्यवस्था धड़ाम हो गयी थी तो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश की जनता से आहवान किया था कि आपदा में अवसर तलाश करें। उन्होने ये स्लोगन इसलिए कहा था कि देश की जीडीपी दर को बढ़ाया जा सके और लोगों को रोजगार मिल सके लेकिन प्रधानमंत्री के इस स्लोगन को गुटखा व्यापारियों व दुकानदारों ने अपने स्तर से लेते हुए आपदा में अवसर ढूढ़ लिया है। कोविड-19 के मरीज बढ़ने के साथ ही दो दिन के शुरू हुए लाकडाउन का इन व्यापारियों से फायदा उठाना शुरू कर दिया है। सभी कम्पनियों के गुटखों की जहां बाजार में किल्लत हो गयी है वहीं खुलेआम अब ग्राहकों की जेब में डाका डाला जा रहा है। यह सबकुछ जानते हुए विभागीय अधिकारी अंजान बने हैं और इन पर कार्रवाई क्यों नहीं की जा रही है यह एक बड़ा सवाल है। 


बताते चलें कि देश में कोरोना वायरस स्ट्रेन के रूप में आया है और प्रतिदिन जिले में एक सैकड़ा से अधिक मरीज मिल रहे हैं। उधर प्रदेश के सभी जनपदों की हालत भी ठीक नहीं हैं। इस बार मौतों का ग्राफ पिछले साल की अपेक्षा कहीं ज्यादा है। कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए प्रदेश सरकार ने शुक्रवार की रात आठ बजे से सोमवार की सुबह सात बजे तक जहां लाकडाउन लगाने का फैसला किया है वहीं स्थानीय स्तर पर जिलाधिकारी अपूर्वा दुबे ने प्रतिदिन रात्रि नौ बजे से सुबह छह बजे तक कोरोना कफ्र्यू लगाये जाने की घोषणा की है। ऐसे हालात पैदा होने पर गुटखा व्यापारी फूला नहीं समा रहा है। उसने आपदा में अवसर तलाशना शुरू कर दिया है। इन हालातों का यदि किसी ने पिछले वर्ष फायदा उठाया था तो वह सिर्फ गुटखा व्यापारी था। इस बार भी यही हालात पैदा किये जा रहे हैं। गुटखा एजेन्सी संचालकों ने जहां माल को डम्प करना शुरू कर दिया है वहीं प्रत्येक पैकेट पर चालीस से पचास रूपये का इजाफा भी कर दिया गया है। एजेन्सी संचालकों की तर्ज पर ही रिटेल दुकानदारों ने भी आपदा में अवसर ढूढ़ा और उन्होने अपनी मार्जिन में इजाफा कर लिया। ऐसे हालातों में ग्राहकों की जेब में खुलेआम डाका डाला जा रहा है। तीन रूपये की दर में बिकने वाला कमला पसंद गुटखा अब सीधे पांच रूपये प्रति पाउच कर दिया गया है। इसी तरह ढाई रूपये का बिकने वाला केसर गुटखा अब सीधे पांच रूपये का मिल रहा है। इसी तरह दिलबाग, एसएनके, सिग्नेचर, रजनीगंधा समेत सभी गुटखे महंगे हो गये हैं। वहीं कुछ ग्राहक भी गली-गली घूमकर गुटखा खरीदने की होड़ में लगे हुए हैं। एजेन्सी संचालकों के साथ-साथ व्यापारी वर्ग का यह अनुमान है कि दो मई के बाद प्रदेश सरकार द्वारा सम्पूर्ण लाकडाउन की घोषणा कर दी जायेगी ऐसे में वह किसी से पीछे नहीं रहेंगे और दोगुने से अधिक दामों में गुटखे की बिक्री करके रातों-रात लखपती बन जायेंगे। उनकी यह मंशा जग जाहिर है इसके बावजूद विभागीय अधिकारियों द्वारा इन पर कोई कार्रवाई नहीं जा रही है। यह एक बड़ा सवाल है। उधर ग्राहकों में इस बात को लेकर बेहद नाराजगी व्याप्त है। कई ग्राहकों व दुकानदारों के बीच आज गुटखा खरीदने को लेकर नोंकझोंक भी होते हुए देखी गयी। 

केसर गुटखे की जमाखोरी में जुटा एजेन्सी संचालक

खागा-फतेहपुर। जिले में यदि सबसे अधिक कोई गुटखा पसंद किया जाता है तो वह केसर है। केसर प्रेमियों को इन दिनों बड़ा झटका लगा है क्योंकि एजेंसी संचालक ने गुटखे को बड़े पैमाने पर डम्प करना शुरू कर दिया है। बताया जाता है कि यह गुटखा एजेन्सी संचालक कानपुर सेन्ट्रल में बीते दिनों 52 लाख रूपये के काले धन के साथ पकड़ा गया था। जिसके बाद जीआरपी पुलिस ने इंक्वायरी कर ब्योरा मांगा जिसका एजेन्सी संचालक कोई लेखा-जोखा नहीं दे पाया था और उसने अपने बचाव में कहा था कि वह सामान खरीदने के लिए यह पैसा लाया था। जिसमें पूरी बात स्पष्ट ना हो पाने के कारण कानपुर जीआरपी पुलिस ने इनकम टैक्स डिपार्टमेंट को बुलाकर सारा पैसा सुपुर्द करवा दिया था। जिसकी अभी मामले में जांच चल रही है। पुराने नुकसान को बराबर करने के लिए एजेन्सी संचालक फिर लाखों के केसर गुटखा को डम्प करके अवैध बिक्री करने में लग गया है। जिसके कारण कस्बे में केसर गुटखे का रेट दोगुना हो गया है। जिसके चलते केसर खाने वाले शौकीनों की जेब ढीली हो रही है। हालांकि अब पूरा मामला खागा कोतवाली पुलिस,एसओजी सहित इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के संज्ञान में भी हो गया। डिपार्टमेंट से बातचीत के दौरान अधिकारियों ने बताया जल्द ही ऐसे जमाखोर गुटखा व्यापारियों के खिलाफ छापेमारी करके उचित कार्रवाई की जाएगी।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages