शहीदों की बेवाओं और पूर्व सैनिकों का किया गया सम्मान - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Tuesday, April 13, 2021

शहीदों की बेवाओं और पूर्व सैनिकों का किया गया सम्मान

30 दिवसीय चौरी चौरा शताब्दी समारोह का हुआ समापन 

नवोदित कलाकारों ने प्रतिभा का प्रदर्शन कर बटोरी तालियां 

बांदा, के एस दुबे । उत्तर प्रदेश संगीत नाटक अकादमी लखनऊ एवं नटराज संगीत महाविद्यालय की ओर से 30 दिवसीय चैरी चैरा शताब्दी समारोह मनाया गया। इसका निर्देशन जय तिवारी लखनऊ ने किया। नवोदित कलाकारों ने अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि रामहित निषाद प्रबंधक एवं समाजसेवी शिवमोहन सिंह रामअवतार महाविद्यालय व विशिष्ट अतिथि के रूप में राजकुमार राज पूर्व चेयरमैन नगर पालिका परिषद आईटीआई निर्देशक एम. कुलश्रेष्ठ अमित सेठ भोलू, तथा अध्यक्षता डाक्टर चंद्रिका प्रसाद दीक्षित ललित ने की। कार्यक्रम का शुभारंभ दीप मंत्रों के साथ प्रारंभ होकर के लोक नृत्य देवी स्तुति के माध्यम से प्रारंभ हुआ। नृत्य निर्देशिका श्रद्धा निगम के निर्देशन में बाल कलाकारों के द्वारा देवी स्तुति सौम्या, अधीरा, अनन्या, पलक ने की। 

पूर्व सैनिकों को सम्मानित करते अतिथिगण

युवा नेता कलाकारों के द्वारा छवी गुप्ता, सीमा, शुभी, श्रद्धा सिंह, तनिष्का सक्सेना, अनुष्का, शिवानी, सुप्रिया, आध्या, अदिति, विभूति, शैलजा, सनोवर निगम आदि ने जवारा नृत्य का मचन किया। नाटक कलाकारों में आशीष, पवन, अशरफ, राहुल, प्रज्वल, जयप्रकाश, पवन, दीपा, रोशनी, पुष्पा, प्रवीण गुप्ता, अजय, ऋषभ, मनोज, शैलेश, अमन, कुशाग्र आदि ने भावपूर्ण प्रस्तुतियां दीं। कोलकाता से पधारी माईम नाटक के विशेषज्ञ प्रियंका मंडल द्वारा अद्भुत मूक मंचन किया गया। इसमें लोगों ने भाव विभोर होकर के तालियां बजाने को मजबूर हो गए। तत्पश्चात जयप्रकाश तिवारी को संस्कार भारती के सौजन्य से अपूर्व सोनी द्वारा निर्मित किया गया चित्र पेंटिंग भेंट की गई। इस अवसर पर कार्यक्रम में 11 शहीदों की धर्म पत्नियों को सम्मानित किया गया। 11 पूर्व सैनिकों को भी सम्मानित किया गया। इनमें कैप्टन एसडी सिंह, मेजर डीएस तिवारी, सूबेदार सीताराम तिवारी, सूबेदार रामनरेश, गंभीर सिंह, हवलदार ब्रिज नारायण सिंह, हवलदार सिंह, विजय सिंह, ढोल चंद्र, हवलदार इंद्र बहादुर सिंह तथा मनोज कुमार सहित आरपी तिवारी को सम्मानित किया गया। सेवा में कार्यरत अखंड हिंद फौज के 11 नौजवानों को तथा वीर वीरांगना सैनिकों को को भी सम्मानित किया गया। 

मुख्य अतिथि ने कहा कि वास्तव में बांदा के इतिहास में यह पहला दृश्य है जो जीवंत देखने को मिला है। इतिहास के पन्नों को सजीवता के रूप में उतर पाना, यह अद्भुत कला का प्रदर्शन है जो आज हम सभी को जय तिवारी के निर्देशन में बांदा की पावन धरती पर देखने को मिला है। बंटी सिंह व संगीत संचालन के लिए राहुल शर्मा तथा मंच संचालन के लिए दीनदयाल सोनी को भी सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में प्राचार्य अनुराधा सिंह व प्रबंधक धनंजय सिंह के द्वारा समस्त प्रतिभागियों को पुरस्कार देकर के उत्साहित किया गया। इस दौरान वरिष्ठ लेखिका छाया सिंह, अनुराधा सिंह, सीमा सक्सेना, संजय श्रीवास्तव एडवोकेट, संजय निगम, दीपक स्वर्णकार, संजय काकोनिया, उद्घोषक चंद्रशेखर तिवारी, पूर्व सैनिक मनोज कुमार, मृदुल, डा. शिव प्रकाश सिंह, अलका, दिनेश वर्मा, अरुण कुमार सक्सेना, योगाचार्य रमेश सिंह पटेल, नरेंद्र सक्सेना,  आरसी योगा, सुधीर श्रीवास्तव सहित दो सैकड़ा दर्शक रहे।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages