दो माह पूर्व चोरी हुयी अष्टधातु की वेशकीमती मूर्तियां बरामद, चार गिरफ्तार - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Tuesday, April 20, 2021

दो माह पूर्व चोरी हुयी अष्टधातु की वेशकीमती मूर्तियां बरामद, चार गिरफ्तार

एसपी ने बरामदगी करने वाली पुलिस टीम को दिया पच्चीस हजार का ईनाम

फतेहपुर, शमशाद खान । जाफरगंज थाना क्षेत्र के ग्राम खोटिला में दो माह पूर्व चोरी हुयी अष्टधातु की वेशकीमती मूर्तियों को जहां खागा पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर बरामद कर लिया वहीं मौके से चार अभियुक्तों को हिरासत में लिया है। पकड़ा गया मुख्य अभियुक्त जाफरगंज थाने का हिस्ट्रीशीटर है। जो बढ़ई का काम करता था और एक वर्ष पूर्व उसने इन मूर्तियों को चोरी करने की योजना बनायी थी। पुलिस टीम की इस सफलता पर एसपी ने टीम को पच्चीस हजार रूपये का ईनाम देकर हौसला अफजाई की है। 

पत्रकारों से बातचीत करते एसपी सतपाल अंतिल एवं पीछे पकड़े गये अभियुक्त।

पुलिस लाइन के सभागार में पत्रकारों से बातचीत करते हुए एसपी सतपाल अंतिल ने बताया कि त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के मद्देनजर क्षेत्र में शांति व्यवस्था कायम रखने के उद्देश्य से अभियान चलाया जा रहा है। जिसके तहत खागा कोतवाली प्रभारी निरीक्षक अपने हमराही सिपाहियों के साथ क्षेत्र में गश्त कर रहे थे। तभी मुखबिर की सूचना पर टीम ने हाईवे पर खड़े चार शातिर चोरों को गिरफ्तार कर लिया। जिनके पास से जाफरगंज थाना क्षेत्र के ग्राम खोटिला में दो माह पूर्व हुयी गई अष्टधातु की वेशकीमती मूर्तियां बरामद हुयीं। पकड़े गये अभियुक्तों ने अपने नाम राजेश विश्वकर्मा उर्फ फूल बाबू पुत्र जुगराज विश्वकर्मा निवासी जगदीशपुर सेंधरी थाना किशनपुर हाल पता ग्राम खोटिला थाना जाफरगंज, हरिश्चन्द्र विश्वकर्मा उर्फ मटरू पुत्र स्व0 रामनाथ विश्वकर्मा निवासी छीमी थाना खागा, प्रदीप यादव उर्फ बबेरू लाल पुत्र नवल यादव निवासी मर्का थाना कर्मा जनपद बांदा मूल निवासी ग्राम कटरा थाना असोथर व अजीत कुमार विश्वकर्मा पुत्र शिवभवन विश्वकर्मा निवासी कलनापुर थाना धाता बताया। पकड़े गये चोरों में मुख्य अभियुक्त राजेश विश्वकर्मा उर्फ फूल बाबू जाफरगंज थाने का हिस्ट्रीशीटर है। एसपी ने बताया कि पूछताछ के दौरान अभियुक्त ने बताया कि वह बढ़ई का काम करता था। लगभग एक वर्ष पहले ग्राम खोटिला थाना जाफरगंज में सुभाकर सिंह पुत्र स्व0 अरविन्द सिंह के घर दरवाजे का काम करने गया था। उसी दौरान उसने इन मूर्तियों को देखा था। लोगों से सुना था कि कई सौ वर्ष पुरानी यह अष्टधातु की महंगी मूर्तियां हैं। तभी इनको चुराने का लालच आ गया था और योजना बनाकर अपने साथियों के साथ पिछले फरवरी माह के दूसरे सप्ताह में घटना को अंजाम दिया था। बताया कि उक्त घटना में राधा-कृष्ण की मूर्ति के अलावा भगवान विष्णु की एक छोटी मूर्ति को चुराया था। जिसें भगवान विष्णु की छोटी मूर्ति तांगे की लग रही थी। मूर्ति चुराकर उन्होने अपने साथी हरिश्चन्द्र विश्वकर्मा उर्फ मटरू निवासी छीमी थाना खागा के यहां रख दी थी। ग्राहकों को बेंचने के लिए एक मूर्ति राधा की कई जगह से खंडित किया। पुलिस ने अभियुक्तों के कब्जे से तमंचा-कारतूस भी बरामद किये हैं। पकड़े गये अभियुक्तों के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया गया। बरामदगी करने वाली टीम में प्रभारी निरीक्षक खागा संतोष कुमार शर्मा, मझिलगांव चैकी प्रभारी अश्वनी कुमार सिंह, चैकी प्रभारी कस्बा खागा सुजीत कुमार सिंह, हेड कांस्टेबल कन्हैया लाल, कांस्टेबल अजय कुमार सिंह, राम कुमार, ऋषिरंजन मिश्रा, राहुल कुमार, महिला कांस्टेबल स्नेहलता शामिल रहीं। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages