लाकडाउन में यात्रियों का सहारा बने ई-रिक्शा - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Sunday, April 25, 2021

लाकडाउन में यात्रियों का सहारा बने ई-रिक्शा

फतेहपुर, शमशाद खान । वैश्विक महामारी को फैलने से रोकने के लिए प्रदेश सरकार के निर्देश पर शनिवार व रविवार को लाकडाउन घोषित किया गया है। लाकडाउन में साफ दिखा-निर्देश हैं कि सड़कों पर किसी भी तरह के वाहन नहीं संचालित होंगे लेकिन पेट की आग की खातिर कुछ ई-रिक्शा चालक सड़कों पर दिखाई दिये और यह ई-रिक्शा गैर जनपदों से आने वाले यात्रियों के लिए सहारा साबित हुए। ई-रिक्शा पर सवार होकर यात्री अपने गन्तव्य को जाते दिखे। 

ई-रिक्शा में सवार यात्री।

बताते चलें कि लाकडाउन का पालन कराये जाने के लिए जिलाधिकारी अपूर्वा दुबे ने दिशा-निर्देश दिये थे कि शनिवार व रविवार को जहां बाजार पूर्णतः बंद रहेंगे वहीं मार्गों पर वाहनों का संचालन नही किया जायेगा। उधर लाकडाउन के दौरान भी रोडवेज बसें संचालित होने से गैर जनपदों से यात्री जनपद को आते रहे। बसों का ज्यादा संचालन न होने की वजह से रोडवेज बस स्टाप पर कुछ यात्री भी दिखाई दिये। जैसे ही रोडवेज बस आयी तो कुछ यात्री जहां बस में सवार हुए तो कुछ यात्री बस स्टाप पर उतर गये। ऐसे में जब ई-रिक्शा चालक ने उनके सामने रिक्शा खड़ा किया तो वह उनके लिए किसी सहारे से कम नहीं था। यात्री तत्काल ई-रिक्शा में अपने गन्तव्य को जाने के लिए बैठ गये। उधर ई-रिक्शा चालक से जब बात की गयी तो उसका कहना रहा कि पेट की खातिर वह लाकडाउन में सड़क पर निकला है। यदि वह रिक्शा नहीं चलायेगा तो अपने परिवार का पेट कैसे पालेगा। अब ऐसे में सवाल यह उठता है कि इन रिक्शा चालकों की ही तरह कई ऐसे छोटे-मोटे व्यवसाय करने वाले लोग हैं जो प्रतिदिन की कमाई पर निर्भर हैं। लाकडाउन में इन लोगों के सामने सबसे अधिक कठिनाईयां खड़ी हो जाती हैं। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages