कोरोना के बीच वायरल बुखार के अटैक से मौतों का बढ़ा आंकड़ा - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Tuesday, April 27, 2021

कोरोना के बीच वायरल बुखार के अटैक से मौतों का बढ़ा आंकड़ा

जिला चिकित्सालय में स्वास्थ्य सेवाएं नाकाफी, जिन्दगी की जद्दोजहद में मरीज

एक बेड पर दो मरीजों को भर्ती कर किया जा रहा उपचार

बेड फुल होने पर व्हील चेयर व बेंचों में भर्ती किये जा रहे मरीज 

फतेहपुर, शमशाद खान । वैश्विक महामारी कोरोना का कहर जहां थमने का नाम नहीं ले रहा है वहीं अब वायरल बुखार के डबल अटैक ने मौतों के आंकड़े को और बढ़ा दिया है। हालात यह है कि शहर के अधिकतर वार्डों में जहां प्रतिदिन लोगों की आकस्मिक मौत हो रही है वहीं अब इसकी दहशत भी मार्गों पर साफ दिखाई दे रही है। स्वास्थ्य सेवाओं की बात की जाये तो जिला चिकित्सालय में स्वास्थ्य सेवाएं जहां नाकाफी साबित हो रही है वहीं मरीजों को जिन्दगी की जंग जीतने के लिए जद्दोजहद करनी पड़ रही है। एक बेड पर दो मरीजों को भर्ती कर उपचार किया जा रहा है। वहीं बेड फुल होने की दशा में व्हील चेयर व बेंचों में ही मरीज भर्ती किये जा रहे हैं। धीरे-धीरे हालात बेकाबू होते जा रहे हैं। आमजन के बीच इस माहौल को लेकर दहशत भी व्याप्त हो गयी है। 

ट्रामा सेंटर में एक बेड पर भर्ती दो मरीज एवं बेंच में लेटी महिला मरीज।

बताते चलें कि कोरोना वायरस पिछले वर्ष पड़ोसी मुल्क चीन के वुहान शहर से फैला था और धीरे-धीरे इस वायरस की चपेट में पूरा विश्व आ गया था। वायरस पर काबू पाने के लिए जहां केन्द्र सरकार ने तीन माह लाकडाउन कर दिया था वहीं इसकी रोकथाम के प्रयास भी किये थे। इसमें सरकार को सफलता भी हाथ लगी थी और वायरस का प्रकोप काफी हद तक कम हो गया था। लोगों को अनुमान था कि इस वर्ष सभी को राहत मिल जायेगी क्योंकि भारत में निर्मित को-वैक्सीन लांच हो गयी थी जिसका टीकाकरण भी शुरू हो गया था लेकिन लोगांे की सोंच के उलट हालात हो गये और अचानक कोरोना वायरस का प्रकोप तेजी के साथ फैल गया। अब हालात यह है कि शहर क्षेत्र में ही प्रतिदिन सैकड़ों की तादाद में कोविड पाजिटिव मरीज सामने आ रहे हैं। सोशल मीडिया के साथ-साथ सभी टीवी चैनलों पर प्रतिदिन सिर्फ और सिर्फ कोरोना से संबंधित खबरें ही चल रही हैं। उधर कोरोना के इस माहौल के बीच डबल अटैक के रूप में वारयल बुखार ने अपने पांव पसार लिये हैं। शहर क्षेत्र की बात की जाये तो प्रत्येक वार्ड में वायरस फीवर के साथ-साथ खासी, जुकाम से मरने वालों की संख्या में एकाएक बाढ़ सी आ गयी है। मौतों का ग्राफ इतना ज्यादा हो गया है कि पहले की अपेक्षा दो से तीन गुना लाशे श्मशान व कब्रिस्तान पहुंच रही है। इन मौतों को लेकर लोगों में तरह-तरह की चर्चाएं भी व्याप्त हैं। एकाएक वायरस बुखार समेत अन्य बीमारियों के मरीजों की संख्या में इजाफा होने से स्वास्थ्य सेवाएं बौनी साबित होने लगी हैं। बताते चलें कि कोरोना वायरस के संक्रमण फैलने के साथ ही शासन के निर्देशन में जिला चिकित्सालय की ओपीडी सेवाएं बंद कर दी गयी थी। इसके साथ ही प्राइवेट अस्पतालों में भी चिकित्सकों ने मरीजों को देखना बंद कर दिया था। जिससे हालात और बिगड़ गये। जिला चिकित्सालय के ट्रामा सेन्टर की बात की जाये तो यहां हालात यह है कि सभी बेड जहां मरीजों से फुल हो चुके हैं। वहीं अब भी मरीजों को भर्ती कराने के लिए लोगों की लाइन लगी हुयी है। ऐसे हालातों में तीमारदार चिकित्सकों व स्टाफ से मिन्नते कर रहे हैं कि उनके मरीज को भर्ती कर लिया जाये। चिकित्सक व स्टाफ सहानुभूति दिखाते हुए मरीजों को भर्ती भी कर रहे हैं। जिसका आलम यह है कि एक बेड पर दो मरीजों के साथ-साथ बेंच व व्हील चेयर में लिटाकर मरीजों का उपचार किया जा रहा है। जिला चिकित्सालय के ट्रामा सेन्टर में भर्ती सभी मरीजों को बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं देने के लिए स्टाफ प्रयासरत हैं। ऐसी परिस्थितियां उत्पन्न हो जाने से लोगों के बीच दहशत का माहौल भी व्याप्त है।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages