बेहतर स्वास्थ्य सेवाओं के लिए स्टाफ को किया जाएगा ट्रेंड - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Friday, April 30, 2021

बेहतर स्वास्थ्य सेवाओं के लिए स्टाफ को किया जाएगा ट्रेंड

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। जिले के कोविड अस्पताल खोह में सारे संसाधन मौजूद हैं। डीएम से लेकर स्वास्थ्स्य विभाग के उच्चाधिकारी निरीक्षण कर कर्मचारियों को सही इलाज करने के निर्देश भी देते हैं, लेकिन सच्चाई इसके विपरीत है। सामान्य मरीज को बहुत मुश्किल से आक्सीजन मिलता है। अस्पताल में वेंटिलेटर रखे हैं। दुर्र्भाग्य इसे संचालन करने वाला ट्रेंड स्टाफ नहीं है। ऐसे में मरीजों को बांदा मेडीकल कालेज रेफर किया जाता है।

अस्पताल में लगी वेंटीलेटर।

जनपद में मौजूदा समय पर डेढ़ हजार से अधिक की संख्या में कोरोना संक्रमित है। कोविड अस्पताल खोह में भर्ती कई मरीज व उनके तीमारदारों ने यहां पर इलाज सही न मिलने के आरोप लग रहे है। कई संक्रमितों की मौतें भी हो चुकी है। कोविड के मरीज ज्यादातर होम आइसोलेशन में है। जो कोविड अस्पताल में हंै उनमें से कई मरीजों के परिजन अव्यवस्था होने की बात कर रहे हैं। एक तीमारदार ने बताया कि मरीज को आक्सीजन कमी के चलते भर्ती कराया है। देखरेख में कोई भी स्टाफ व डाक्टर मौके पर नहीं आ रहा है। महज बुलाकर गोलियां दे दी गई है। जिले में डेढ़ हजार कोरोना से संक्रमित मरीज हैं। इसकी एक और बानगी दिखती है कि दो सौ बेड वाले इस अस्पताल में वेंटिलेटर भी मौजूद हैं। बावजूद इसके किसी मरीज के सीरियस होने पर मौजूद स्टाफ तत्काल बांदा के लिए रेफर कर दिया जाता है। इस मामले में प्रभारी सीएमओ डा. इम्त्यिाज अहमद ने बताया कि सारी उपलब्ध सुविधाएं मरीजों को दी जाती हैं। ज्यादा मरीज व कम स्टाफ होने से कुछ समस्यायें तो आती हैं। वेंटिलेटर तो अस्पताल में मौजूद है लेकिन इसके संचालन के लिए टेंªड स्टाफ की जरूरत होती है जो 24 घंटे काम कर सके। हाल में 15 नये लोगों की भर्ती की गई है। उनमें से कुछ को वेंटिलेटर संचालन की ट्रेनिंग दी जाएगी तब यह सुचारू रूप से काम कर सकेगा।  


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages