‘आरओ लेंगें अस्वीकृत मतपत्रों का निर्णय’ - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Friday, April 30, 2021

‘आरओ लेंगें अस्वीकृत मतपत्रों का निर्णय’

डीएम की मौजूदगी में आरओ, एआरओ का हुआ प्रशिक्षण

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। त्रिस्तरीय पंचायत निर्वाचन की मतगणना को सकुशल संपन्न कराने के लिए जिलाधिकारी/जिला निर्वाचन अधिकारी शुभ्रान्त कुमार शुक्ल की उपस्थिति में आरओ, एआरओ का प्रशिक्षण चित्रकूट इंटर कॉलेज कर्वी में संपन्न हुआ।

उन्होंने आरओ, एआरओ को निर्देश दिए की मतगणना का प्रशिक्षण दिया गया है और मतगणना की बुकलेट प्राप्त कराई गई है उसे विधिवत अध्ययन कर मतगणना का कार्य सफलता एवं पारदर्शिता के साथ संपन्न कराएं। अभी तक निर्वाचन प्रक्रिया कार्य में महत्वपूर्ण योगदान दिया है और चुनाव अंतिम प्रक्रिया में है। टीम भावना से कार्य करें। बूथवार परिणामों की फीडिंग कंप्यूटर ऑपरेटर के माध्यम से अवश्य कराया जाए। उन्होंने कहा कि मतगणना के पहले कोविड-19 की जांच अवश्य करा लें। मतगणना टेबल पर एक समय में उम्मीदवार या उसका मतगणना अभिकर्ता या निर्वाचन अभिकर्ता में से एक ही उपस्थित रहेगा। मतगणना के समय मतगणना अभिकर्ता

प्रशिक्षण के दौरान निर्देश देते डीएम।

कक्ष के बाहर जाने की अनुमति नहीं है। एक बार प्रवेश होने के बाद मतगणना परिणाम घोषित होने के बाद ही बाहर जाएगा। मतगणना स्थल पर किसी सुरक्षा प्राप्त व्यक्ति अथवा उसके अंगरक्षक को शस्त्र के साथ प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा। चारों पदों की मतगणना एक साथ कराई जाएगी। मतगणना कक्ष में अभिकर्ता तथा मतगणना कार्मिकों के बीच एवं जाली भी लगाई जाएगी। मतगणना केंद्र के प्रांगण के 200 मीटर की परिधि में केवल ड्यूटी पर तैनात अधिकारी और कर्मचारी के वाहन को ही प्रवेश दिया जाएगा मतगणना कार्मिकों की शिफ्टवार ड्यूटी है। प्रत्येक शिफ्ट 12-12 घंटे की होगी। पहले शिफ्ट में नियुक्त कर्मी को प्रातः आठ से सायंकाल आठ बजे तक एवं दूसरी शिफ्ट के कार्मिकों को शाम आठ बजे से सुबह आठ बजे तक मतगणना की समाप्ति तक मतगणना करेंगे। एक शिफ्ट के मतगणना कार्मिक अपनी ड्यूटी तभी छोड़ेंगे। जब अगली सिफ्ट के प्रतिस्थानीय ड्यूटी पर आ जाएं, कहा कि क्षेत्र पंचायत तथा जिला पंचायत सदस्य के मतपत्रों को उलट कर उसके पीछे अंकित सुबह तक सील में वार्ड के क्रमांक को देखकर प्रत्याशी वार चटनी कर पूर्व वरिष्ठ प्रक्रिया के अनुसार 50-50 मतो की गड्डियां बनाई जाए। यदि मतदेय स्थल पर एक से अधिक क्षेत्र पंचायत, जिला पंचायत सदस्य वार्ड का निर्वाचन हुआ है तो ऐसे मतदेय स्थलों की पेटी में प्राप्त मतपत्रों को उलट कर उसके पीछे सुभेदक शील में वार्ड क्रमांक को देखकर छटनी कर ली जाए कहा कि अंतिम गड्डी 50 मतों से कम की हो सकती है। जिसमें मतों की संख्या लिखकर स्लिप लगाएं और उसे क्षेत्र पंचायत, सदस्य जिला पंचायत के मतपत्रों को अलग-अलग मंडल में रखा जाए कहा की गड्डियां बांधते समय ध्यान रखा जाए कि कोई मतपत्र निम्न आधारों में से किसी भी आधार पर निरस्त करने योग्य तो नहीं है। अस्वीकृत मतपत्रों को आरओ निर्णय लेंगे। इसी प्रकार ग्राम प्रधान एवं सदस्य पदों पर भी व्यवस्था लागू की जाएगी। कहां की निर्वाचन आयोग द्वारा जो दिशा निर्देश दिए गए हैं उसी के अनुसार मतगणना प्रक्रिया संपन्न कराई जाए। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी अमित आसेरी, अपर जिलाधिकारी जीपी सिंह, अपर जिलाधिकारी नमामि गंगे सुनंदु सुधाकरण, उपनिदेशक कृषि टीपी शाही, परियोजना निदेशक अनय कुमार मिश्रा, प्रशिक्षु आईएएस जगदेव, जिला विद्यालय निरीक्षक बलिराज राम सहित संबंधित अधिकारी तथा आरओ, एआरओ मौजूद रहे।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages