मतदान अधिकारियों के प्रशिक्षण में नियमों की उड़ रही धज्जियां - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Saturday, April 17, 2021

मतदान अधिकारियों के प्रशिक्षण में नियमों की उड़ रही धज्जियां

भीड़ की शक्ल में हासिल कर रहे प्रशिक्षण 

कोरोना को दिया जा रहा खुलेआम न्योता 

फतेहपुर, शमशाद खान । वैश्विक महामारी कोरोना को फैलने से रोकने के लिए जहां शासन द्वारा तमाम प्रयास किये जा रहे हैं वहीं स्थानीय स्तर पर जिला प्रशासन द्वारा ही कोविड नियमों को धता बताकर प्रशिक्षण कार्यक्रम एक महाविद्यालय में आयोजित किया जा रहा है। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को सम्पन्न कराने के लिए इन दिनों ठा0 युगराज सिंह महाविद्यालय में मतदान कार्मिकों का प्रशिक्षण दो पालियों में चल रहा है। इस प्रशिक्षण में किसी भी तरह से कोविड नियमों का पालन नही हो रहा है। कर्मचारी एक बंद कमरे में सैकड़ों की तादाद में रहते हैं जो सिर्फ चेहरे पर मास्क लगाये रहते हैं लेकिन भीड़ की शक्ल में सटकर बैठे प्रशिक्षण ले रहे हैं। इस तरह खुलेआम कोरोना को न्योता दिया जा रहा है। जो चिन्ता का विषय है। 

प्रशिक्षण स्थल पर सटकर बैठे मतदान कर्मी।

कोविड मरीजों की संख्या में बढ़ोत्तरी होने पर नियमों का सख्ती से पालन कराये जाने के लिए प्रदेश सरकार द्वारा प्रतिदिन नये नियम जारी किये जा रहे हैं। लेकिन आम जनता हो या सरकारी तंत्र किसी को भी इसकी जरा सी भी फिक्र नही है। प्रशासन भले ही मास्क पर 1000 से 10,000 तक का जुर्माना लगा ले लेकिन जब सरकारी कर्मचारी इसका पालन नहीं करेंगे तो आम जनता पर इसका क्या फर्क पड़ेगा। शहर के ठा0 युगराज सिंह महाविद्यालय में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को लेकर चुनाव ड्यूटी की ट्रेनिंग चल रही है। साफ तौर पर तस्वीरों में देखा सकता है कि क्या यहां पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जा रहा है क्या सभी लोगों ने मास्क लगा रखा है क्या एक छोटे से कमरे में कितने लोगों के प्रशिक्षण का सही स्थान सही लोगों ने चुनाव किया है। एक तरफ शासन-प्रशासन आम जनता के ऊपर नए नए नियम कानून लगाने में लगी है और वही सरकारी नुमाइंदे इसकी धज्जियां उड़ा रहे हैं। जब प्रशासन को पहले से पता है कि यहां पर इतनी जनसंख्या ट्रेनिंग के लिए आनी है तो क्या प्रशासन को उसकी अलग नियमानुसार व्यवस्था नहीं करनी चाहिये थी। क्या सरकार के काम करने वाले की जान होती या उनका परिवार नही होता। चंद रुपयों के लालची लोगों ने व्यवस्था के नाम पर सब किया होगा परन्तु देखने पर तस्वीरों में साफ नजर आता है कि क्या व्यवस्था प्रशासन ने वहां कर रखी है। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages