लाकडाउन का खौफ: प्रवासियों की घर वापसी का सिलसिला शुरू - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Sunday, April 18, 2021

लाकडाउन का खौफ: प्रवासियों की घर वापसी का सिलसिला शुरू

पिछले वर्ष हुयी कठिनाईयों से बचने के लिए घर लौट रहे मजदूर

रोडवेज बसों व ट्रेनों में उमड़ रही भीड़ 

 फतेहपुर, शमशाद खान । वैश्विक महामारी कोरोना का प्रकोप जहां धीरे-धीरे बढ़ता जा रहा है वहीं अब कोरोना के कहर से लोगों को बचाने के लिए सरकारों के पास एक मात्र सहारा लाकडाउन ही बचा है। कई प्रान्तों व शहरों में सरकारों ने लाकडाउन लगा भी दिया है। ऐसे में गैर प्रान्तों में काम करने वाले प्रवासी मजदूरों की घर वापसी का सिलसिला फिर से शुरू हो गया है। ट्रेनों व बसों के सहारे लोग अपने गन्तव्य को पहुंच रहे हैं। जिससे रोडवेज बसों व ट्रेनों में भीड़ भी उमड़ रही है। प्रवासी मजदूरों का कहना रहा कि पिछले वर्ष हुयी कठिनाईयों से बचने के लिए ही वह समय रहते अपने घर पहुंचा चाह रहे हैं। 

रोडवेज बस से उतरकर गन्तव्य को जाते प्रवासी।

रविवार को प्रथम वीकेंड लाकडाउन रहा लेकिन रोडवेज बसों के साथ-साथ ट्रेनों का संचालन जारी रहा। जिससे गैर प्रान्तों में रोजी-रोटी कमाने के लिए गये प्रवासी मजदूरों का घर वापसी का सिलसिला आज भी जारी रहा। बसों व ट्रेनों में भीड़ की शक्ल में यह प्रवासी मजदूर दिखाई दिये। रोडवेज बस स्टाप पर एक बस रूकी जिसमें सवारियों के उतरते ही जब उनसे बात की गयी तो उन्होने बताया कि उनका नाम राजेन्द्र, राम विलास, पिन्टू है वह सभी खागा के रहने वाले हैं। वह सभी गुजरात प्रान्त में गाड़ी का काम करते थे। वहीं सतेन्द्र तिवारी, हिमांशु, अनूप ने बताया कि वह सभी गुजरात प्रान्त में रहते थे और वहां काम करते थे। कोरोना के बढ़ते प्रकोप के कारण सरकारों ने अब लाकडाउन लगाना फिर से शुरू कर दिया है। इसलिए वह सभी अपने गन्तव्य को जा रहे हैं। बताया कि पिछले वर्ष लाकडाउन अचानक लगा दिये जाने से उन्हें बड़ी कठिनाईयों का सामना करना पड़ा था इसलिए वह इस बार इस जद्दोजहद को नहंी उठाना चाहते थे इसलिए समय रहते वह घर पहुंचना चाह रहे हैं। इसी तरह अन्य प्रवासी मजदूरों ने भी यही जवाब दिये। सभी का कहना रहा कि कोरोना का कहर धीरे-धीरे बढ़ रहा है और कभी भी पूर्ण लाकडाउन लग सकता है इसलिए वह अपने घर जा रहे हैं। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages