पुलिस की कार्यवाही से बची दो मासूमों की जान - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Tuesday, February 2, 2021

पुलिस की कार्यवाही से बची दो मासूमों की जान

क्राईम ब्रान्च व दक्षिण पुलिस की हुई अपहरणकर्ता से मुठभेड़  

मुख्य अपहरणकर्ता के लगी पैर में गोली, महिला सहित 05  गिरफ्तार  

पैसे की लालसा में अबोध बच्चों के अपहरण की  वारदात को दिया अन्जाॅम।

मकान मालिक व अपने अन्य साथी को रूपयों का प्रलोभन देकर किया अपने मंसूबे में शामिल 

फ़िरोज़ाबाद, विकास पालीवाल  ।  31 जनवरी को थाना दक्षिण क्षेत्रान्तर्गत 02 मासूम बच्चों को अज्ञात व्यक्तियों द्वारा अपहरण कर लिया गया था, जिनको पुलिस द्वारा उसी दिन देर रात को आगरा के भगवान टाकीज के निकट से एक ढाबे से सकुशल बरामद कर लिया था। वहीं  वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक द्वारा पुलिस अधीक्षक नगर के पर्यवेक्षण व क्षेत्राधिकारी नगर व सीओ टूण्डला के नेत्रत्व में क्राइम ब्रान्च टीम व थाना दक्षिण पुलिस की टीमों को बच्चों के अपहरणकर्ताओं की शीघ्र से शीघ्र गिरफ्तारी हेतु निर्देशित किया गया था । पुलिस टीमों को सोमवार देर रात्रि उस समय सफलता प्राप्त हुई जब  मुखबिर से सूचना मिली कि दोनों मासूमों का मुख्य अपहरणकर्ता अपने साथी से मिलने हिमायूंपुर आने वाला है ।  उक्त सूचना पर पुलिस टीम द्वारा उच्चाधिकारियों को अवगत कराते हुये मुखबिर द्वारा बताये गये स्थान पर पंहुचे तभी मुख्य अपहरणकर्ता सी0एल0 जैन काॅलेज से हिमायूंपुर को जाने वाले रास्ते पर


स्पैलण्डर बाईक पर आता हुआ दिखाई दिया । पुलिस टीम द्वारा उसको रोकने का प्रयास किया किन्तु अपहरणकर्ता द्वारा पुलिस टीम को देखते ही जान से मारने की नीयत से फाॅयर करना शुरू कर दिया ।  पुलिस टीम द्वारा जवाबी फाॅयर कर अपहरणकर्ता को उसके पैर में गोली लगने के उपरान्त पकड़ लिया गया। 

       एसएसपी अजय कुमार पांडेय ने खुलासा करते हुए बताया कि  गिरफ्तार  मुख्य अभियुक्त अभय जादौन से पूछताछ की गई तो बताया कि उसके माता-पिता की मृत्यु बचपन में ही हो गयी थी ।  वह ग्लोरी स्कूल सिकन्दरा के मालिक के यहां रहकर चपरासी का कार्य करते हुये इण्टरमीडिएट तक शिक्षा ग्रहण किया और उसी स्कूल में पढ़ाने वाली एक अध्यापिका से मई 2020 में शादी कर ली । शादी के दौरान कई लोगों से पैसे उधार लिये जो अपने पैसे वापस मांग रहे थे और इसके पास वापस करने को पैसे न होने के कारण उसने यह बात अपने दोस्त हिमान्शू धाकरे को बताई तो हिमान्शू ने इससे किसी बच्चे का अपहरण कर फिरौती की सलाह दी । इसके बाद अभय फिरोजाबाद आया और उसने भीम नगर गली न0- 02 के रहने वाले सतीश चन्द्र पुत्र जगदीश प्रसाद से सम्पर्क कर पूरी योजना को बताया तो सतीश भी अपहरण की योजना में शामिल हो गया और उसने पडा़ैस में रहने वाली रीता राजपूत पत्नी बब्लू राना व बब्लू राना पुत्र ओमप्रकाश को यह बात बताई और अपने मकान में एक कमरा देने के लिये कहा । सभी के द्वारा योजना बनाई गयी कि बच्चों को लेकर अभय आगरा चला जायेगा । फिर हिमान्शू रीता राजपूत के मोबाईल न0 पर काॅल कर के फिरौती की माॅग करेगा। जिसके बाद अभय ने मकान के सामने रहने वाले योगेश पुत्र विपिन (उम्र-03 वर्ष) व कुनाल पुत्र प्रेम चन्द्र, (उम्र 5 वर्ष) नि0-भीमनगर, गली न0-02, थाना-दक्षिण, फिरोजाबाद को टाॅफी व खाने-पीने के सामान रोजाना देकर उनसे हिल-मिल गया तथा 31 जनवरी  को मौका मिलते ही दोनों मासूमों को लेकर आगरा पहंचा और अपने दोस्त हिमान्शू को बुला लिया ।  रीता राजपूत के फोन पर हिमान्शू द्वारा फिरौती की माॅग करने हेतु फोन मिलाया गया तो फोन बन्द आया । तो शक हो गया कि इन लोगों को पुलिस ने पकड़ लिया और भगवान टाॅकीज के पास चैकिंग व पुलिस की गाड़िया देखकर डर गये व बच्चों को वहीं छोड़कर भाग गये। गिरफ्तार करने वाली टीम में थाना प्रभारी  सुशान्त गौड,  देवेन्द्र शंकर पाण्डेय ( क्राईम ब्रान्च टीम) , प्रभारी एस0टी0एस0 हरवेन्द्र मिश्रा, प्रभारी एसओजी कुलदीप सिंह, उ0नि0 अजय चक, सुरेंद्र सिंह, अशोक कुमार,  योगेन्द्र सिंह, सन्तोष कुमार, आशीष शुक्ला,  अमित उपाध्याय, मुकेश कुमार, रघुराज सिंह , अनिल गुप्ता, लव प्रकाश थे ।  वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक द्वारा घटना का अनावरण करने वाली टीम के उत्साहवर्धन हेतु 25 हजार रूपये की नगद धनराशि से पुरूस्कृत किया गया है। 

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages