महंगाई समेत दलित महिलाओं पर हो रहे अत्याचार पर किया प्रदर्शन - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Friday, February 12, 2021

महंगाई समेत दलित महिलाओं पर हो रहे अत्याचार पर किया प्रदर्शन

अभाखेमयू ने प्रधानमंत्री को भेजा आठ सूत्रीय ज्ञापन 

फतेहपुर, शमशाद खान । मनरेगा बजट में 41 प्रतिशत की हो रही कटौती समेत बेहताशा बढ़ रही महंगाई व दलित महिलाओं पर हो रहे अत्याचार को लेकर शुक्रवार को कम्युनिस्टों ने कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन किया तत्पश्चात प्रधानमंत्री को सम्बोधित आठ सूत्रीय ज्ञापन अपर उपजिलाधिकारी को सौंपकर सभी मांगों को शीघ्र पूरा किये जाने की आवाज बुलन्द की। 

अखिल भारतीय खेत मजदूर यूनियन की जिला इकाई के बैनर तले कम्युनिस्टों ने कलेक्ट्रेट आकर प्रदर्शन किया तत्पश्चात प्रधानमंत्री को सम्बोधित आठ सूत्रीय ज्ञापन अपर उपजिलाधिकारी को सौंपकर बताया कि देश व्यापी आहवान पर एकत्र होकर प्रदर्शन किया गया है। पिछले कुछ वर्षों से कृषि मजदूरों हेतु मनरेगा कार्यक्रम में केन्द्र सरकार लगातार बजट में कटौती कर रही है। कानून के अनुसार मनरेगा मजदूरों को सौ दिन काम नहीं दिया गया

कलेक्ट्रेट पर बैनर लेकर प्रदर्शन करते कम्युनिस्ट।

काम मांगने पर भी नहीं दिया जाता। मजदूरी का भुगतान भी समय से नहीं किया जाता, पूरे वर्ष लाकडाउन के कारण देश की जनता के साथ कृषि मजदूरों को भुखमरी का सामना करना पड़ रहा है। बताया कि वर्ष 2020 में तीन कृषि कानूनों को संसद द्वारा पारित कराकर किसानों एवं जनता के समक्ष कालाबाजारी एवं जमाखोरी करने के लिए कार्पोरेट को एकतरफा छूट प्रदान कर दी गयी है। इन कानूनों को तत्काल वापस लिया जाये। मनरेगा के बजट में 41 प्रतिशत कटौती समाप्त करके दो लाख करोड़ सालाना बजट आवंटित किया जाये, बढ़ती बेरोजगारी के मद्देनजर साल में दो सौ दिन काम दिया जाये, भीषण महंगाई के जमाने में मनरेगा मजदूरों को न्यूनतम मजदूरी 600 रूपये प्रतिदिन की जाये, काम के घंटे 8 से 12 घंटे करने का प्रस्ताव वापस लिया जाये क्योंकि यह अन्तर्राष्ट्रीय श्रम कानूनों का उल्लंघन है, डीजल, पेट्रोल व रसोई गैस की कीमतों में बढ़ोत्तरी को रोका जाये, किसान विरोधी व जन विरोधी तीनों कृषि कानूनों को केन्द्र सरकार तत्काल वापस ले, दलित महिलाओं पर बढ़ रहे अत्याचारों पर केन्द्र व राज्य सरकारें नियंत्रिण लगायें एवं उत्तराखण्ड में ग्लेशियर फटने में मारे गये सभी कर्मचारियों को सरकार तत्काल 25 लाख का मुआवजा परिजनों को दे तथा अनुरक्षित ढंग से भीषण परिस्थितियों में कर्मचारियों को काम पर लगाने वाले अधिकारियों एवं ठेकेदारों पर आपराधिक केस दर्ज किया जाये। इस मौके पर राकेश सविता, जगरूप भार्गव, गया प्रसाद, आलोक गुप्ता, दिनेश कुमार, चिरंजू लाल, अवधेश कुमार, मो0 अमीन, मनोज कुमार, घनश्याम आदि मौजूद रहे। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages