स्ट्रोक का समय से उपचार से मरीज ठीक हो सकता................... - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Wednesday, February 24, 2021

स्ट्रोक का समय से उपचार से मरीज ठीक हो सकता...................

देवेश प्रताप सिंह राठौर 

(ऑल मीडिया जर्नलिस्ट एसोसिएशन उत्तर प्रदेश महासचिव)

................ स्ट्रोक एक ऐसी बीमारी है, जिसका समय से 30 मिनट या 1 घंटे के बीच मरीज सही जगह नर्सिंग होम या सरकारी अस्पतालों में समय से पहुंच जाएं तो स्ट्रोक जैसी गंभीर बीमारी ठीक हो सकती है पूर्ण रूप से, जैसे की हम सभी लोग जानते हैं स्टॉक के मरीज को 30 मिनट के अंदर हर मरीज को बचाया जा सकता है ऐसा वरिष्ठ झांसी जिला चिकित्सालय के फिजीशियन एवं राष्ट्रीय के तौर पर तमाम सारे अवार्ड प्राप्त कर चुके, डॉक्टर डी एस गुप्ता जी जो झांसी के जिला चिकित्सालय में वरिष्ठ फिजीशियन के तौर पर कार्यरत हैं इनकी ख्याति पूरे देश में है। इन्होंने स्ट्रोक के हजारों मरीजों को समय से आने पर स्वस्थ कर दिया और कुछ मरीज तो इस तरह के आए जिनकी उम्मीद नहीं थी उन्हें भी डॉक्टर डीएस गुप्ता ने अपने कठोर परिश्रम अपनी योग्य राष्ट्रीय स्तर के डॉक्टर डी एस गुप्ता द्वारा बहुत सी जानो को बचाया है, और स्थाई तौर पर विकलांग होने की होने की स्थिति में मरीज को बचाया है तथा नया जीवन दिया है। क्योंकि स्ट्रोक का इलाज रेडी अस्पताल मैं किया  है ,इस  क्षेत्र में उत्कृष्टता के लिए प्रयासरत तीव्र नेटवर्क के लिए है और स्ट्रोक रेडी अस्पतालों में इलाज किए गए हैं रोगियों की संख्या को बताना


संभव नहीं है क्योंकि इतने लोगों का इलाज स्टॉक का डॉक्टर डी एस गुप्ता कर चुके हैं सिर्फ अनुमान लगाया जा सकता है, इनकी संख्या हजारों में है , डॉक्टर डी एस गुप्ता ने बताया मौजूदा साल में गुणवत्ता एवं सुविधा के अनुकूल करना हमारा उद्देश्य  है आपको बताना चाहते हैं जिला अस्पताल में झांसी के वरिष्ठ फिजीशियन डी एस गुप्ता स्ट्रोक का समुचित इलाज मरीजों को समय से इलाज प्राप्त हो सके तो मरीज पूर्ण स्वस्थ होकर घर जाएगा और उसका जीवन बच जाएगा जिला अस्पताल के डॉक्टर वरिष्ठ फिजिशियन डी एस गुप्ता ने स्ट्रोक रोग एवं पूर्ण स्वस्थ लाभ प्रदान करने में सर्वोत्तम संभव इलाज करते हैं डॉक्टर साहब कभी भी स्ट्रोक के मरीजों के प्रति सिथिलता नहीं ब्रदते हैं। स्वयं अपने संरक्षण में मरीज को स्वास्थ्य लाभ ना होने तक पूरा समय ईमानदारी के साथ देते हैं डॉक्टर डी एस गुप्ता मरीजों की जान है,इतनी  संख्याएं बहुत हैं जिनकी  जान बचाई है इनके इस कार्य के लिए बहुत सारे राष्ट्रीय पुरस्कार से नवाजा गया है बहुत ही भावनात्मक लगाव मरीज के साथ डॉक्टर डी एस गुप्ता का जुड़ जाता है। वह हर मरीज के साथ इस तरह व्यवहार करते हैं जैसे उनके परिवार का ही कोई व्यक्त हो मधुर एवं मरीज के साथ पूर्ण रूप से तालमेल उच्च सरल भाषा  शैली और सर्वोपरि इलाज इमानदारी के साथ मरीज को दिन में कई बार देखते हैं अवकाश वाले दिन भी वह जिला अस्पताल में अपने मरीजों के पास ही रहते हैं ऐसे डॉक्टर आज देश में बहुत कमी है लेकिन इस कमी के बाद भी एक नाम सामने आता है डॉक्टर डी एस गुप्ता जिला अस्पताल झांसी के फिजीशियन जिन्होंने स्ट्रोक के क्षेत्र में जो नाम देश और दुनिया में आगे बढ़ रहा है वह इनकी मरीजों के प्रति समर्पण भाव इनकी पूंजी है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages