निजीकरण के विरोध में विद्युत कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Wednesday, February 3, 2021

निजीकरण के विरोध में विद्युत कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार

विभाग का निजीकरण किया तो होगा विरोध-प्रदर्शन 

फतेहपुर, शमशाद खान । केन्द्र सरकार द्वारा विद्युत विभाग के किये जा रहे निजीकरण के विरोध में बुधवार को विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति के बैनर तले हाईडिल कालेानी प्रांगण में विद्युत कर्मियों ने एक दिवसीय सांकेतिक कार्य बहिष्कार किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता अधिशाषी अभियन्ता द्वितीय आरएन सिंह ने की। 

कार्य बहिष्कार के दौरान विद्युत कर्मचारियों ने केन्द्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए अधिशाषी अभियन्ता द्वितीय ने कहा कि यदि केन्द्र सरकार द्वारा विद्युत विभाग का निजीकरण किया गया तो पूरे देश के पन्द्रह लाख कर्मचारी हर जिले में विरोध प्रदर्शन करेंगे। कार्य बहिष्कार के दौरान मांग की गयी कि इलेक्ट्रिसिटी बिल 2020 एवं विद्युत वितरण के निजीकरण हेतु लाये जा रहे स्टैण्डर्ड बिडिंग डाक्यूमेन्ट्स को निरस्त किया जाये, निजीकरण के केन्द्र शासित प्रदेशांे चण्डीगढ़ व पाण्डुचेरी व किसी भी प्रान्त में चल रही

हाईडिल कालोनी में कार्य बहिष्कार कर नारेबाजी करते विद्युत कर्मी।

प्रक्रिया वापस ली जाये, ग्रेटर नोएडा का निजीकरण व आगरा का फ्रेन्चाइजी करार रद्द किया जाये, सभी ऊर्जा निगमों को एकीकृत कर उत्पादन पारेषण व वितरण को एक साथ रखते हुए केरल के एसईबी लिमिटेड व हिमांचल प्रदेश के एचपीएसईबी लिमिटेड की तरह प्रदेश में यूपीएसईबी लिमिटेड गठित किया जाये, सभी बिजली कर्मियों के लिए पुरानी पेंशन योजना वर्ष 2000 से लागू की जाये, नियमित पदों पर नियमित भर्ती की जाये, सभी रिक्त पद भरे जायें एवं संविदा/निविदा कर्मचारियों को तेलंगाना की तरह नियमित किया जाये। समिति के संयोजक प्रमोद कुमार ने कहा कि मांगों पर गम्भीरतापूर्वक विचार करके मांगे पूरी की जायें। अन्यथा की स्थिति में सभी कर्मी आन्दोलन के लिए विवश हो जायेंगे। इस मौके पर जिलाध्यक्ष उमाकांत अग्निहोत्री, मेघ सिंह, फूलचन्द्र भारती, मो0 जाहिद सिद्दीकी, नरेन्द्र नाथ मौर्य, धीरेन्द्र यादव, बशीर अहमद, राजेश कुशवाहा, रवि निषाद, दीप नारायण, कुलदीप उत्तम, सुनील पटेल, श्रवण कुमार, ओम प्रकाश त्रिपाठी, भानू प्रताप, गुलाब आदि रहे। संचालन गजेन्द्र सिंह ने किया। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages