नवीन सांस्कृतिक परिवेश में आयोजित किया गया बसन्तोत्सव - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Tuesday, February 16, 2021

नवीन सांस्कृतिक परिवेश में आयोजित किया गया बसन्तोत्सव

कृष्णा आईडियल हायर सेकेण्डरी स्कूल में आयोजित हुआ कार्यक्रम

बसन्तोत्सव के साथ मनाई गई सुहेलदेव की जयंती

बांदा, के एस दुबे । शहर के कृष्णा आइडियल हायर सेकेण्डरी स्कूल में बसन्तोत्सव का पर्वू एक नवीन सांस्कृतिक परिवेश में सम्पन्न हुआ। वहीं दूसरी ओर सरस्वती का पृथ्वी पर अवतरण के साथ महाप्राण निराला एवं सुहेलदेव की जयंती मनाई गई। बसन्त उत्सव में सरस्वती का पूजन सरसो के पीले फूलों से किया गया।

ये बसंत का पर्व प्रगट होती शारदा भवानी का जन्म न होता, सरस्वती तो गूगी श्रृष्टी कहानी, धरती में यदि सरस्वती का अवतरण न होता तो विधना की यह श्रृष्टि अधूरी ही रह जाती। उक्त उद्गार व्यक्त करते हुये हिन्दी के जाने माने कबि एवं साहित्यकार डा. चन्द्रिका प्रसाद दीक्षित ललित ने कहा। बताया कि बसंत पर्व एक ओर सरस्वती की साधना, विद्या, बुद्धि और कला की देवी की आराधना का पर्व है तो दूसरी ओर पीले रंग की लहलहाती हुई। सरसो

कार्यक्रम में शामिल अतिथिगण व बच्चे

किसानों की और कृष्णा संस्कृति की परिचायक है। कविता के माध्यम से कहा कि व्याह मंडप रचा, हाथ पीले हुये खेत में क्योंकि सरसो सयानी हुई, साथ सखियां मटर भी गले भेटती, क्योंकि बेटी विदा हो, विरानी हुई कविता का पाठ किया। प्रो. बीएल शर्मा ने कहा कि यज्ञ का महत्व बताते हुये कहा कि राक्षसों के द्वारा प्राचीन काल के यज्ञों पर विघ्न बाधा डाली जाती थी। भगवानी राम ने यज्ञों की संस्कृति को बचाया। इस प्रकार राष्ट की रक्षा हुई। इस अवसर पर सरस्वती पूजन सरसों के पीले फूलों से किया गया। विशिष्ट अतिथि के रूप में सुमन तोमर, दीप्ती, प्रियंका, संदीप, लक्ष्मी प्रसाद, राजन आदि की उपस्थिति उल्लेखनीय रही। अन्त में जे पी यादव ने सभी अतिथियों का आभार व्यक्त किया।

सपाईयों ने मनाई महराज सुहेलदेव जयंती

बांदा। समाजवादी पार्टी के जिला कार्यालय में महराज सुहेलदेव की जयंती मनाई गई। जिसमें जिलाध्यक्ष विजयकरन यादव ने उनके जीवन पर प्रकाश डाला। कहा कि उनका जन्म उत्तर प्रदेश में हुआ था। उन्होने बचपन से ही गरीब कमजोर लोगों का साथ दिया है। वह बहराइच जिले के राजा होते हुये भी गरीब कमजोर प्रजा का पूरा साथ देकर आगे लाने का काम करते थे। महराज सुहेलदेव ने 11वी शताब्दी में सलारमकसूद कारथ रोक दिया था। इस कार्यक्रम कासंचालन जिला महासचिव मो. हनीफ ने किया। इस दौरान जिला उपाध्यक्ष प्रदीप यादव, अशोक श्रीवास, नन्दकिशोरयादव, प्रियांशु गुप्ता, अनुपम लौहवंशी, अजय चैहान, अवधबिहारी, प्रदीप जडिया, द्वारिका यादव, ललित कुमार, अरूण भाई, रामफल यादव, योगेश कुमार, राकेश गुप्ता सहित अन्य पदाधिकारी व कार्यकर्ता उपस्थित रहे।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages