नए कृषि कानूनों से किसानों को मिलेगा लाभ-सूर्य प्रताप - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Saturday, February 20, 2021

नए कृषि कानूनों से किसानों को मिलेगा लाभ-सूर्य प्रताप

उ0प्र0के कृषि एवं प्रौद्योगिकी मंत्री ने दीप प्रज्ज्वलित कर किसान मेले का किया उदघाटन

बाँदा, के0एस0दुबे - किसानों के जीवन में खुशहाली लाने के लिए प्रदेश सरकार द्वारा किसानों को खरीफ फसलों के बीज 80 प्रतिशत अनुदान पर उपलब्ध कराये जा रहे हैं जिससे बुन्देलखण्ड़ मण्डल में खरीफ फसलों का आच्छादन बढा है जिससे प्रदेश में 60 लाख मी0टन खरीफ फसलों का उत्पादन बढा है। मंत्री  कृषि, कृषि शिक्षा एवं अनुसंधान मंत्रालय उ0प्र0 सरकार  सूर्य प्रताप शाही ने उपरोक्त विचार बांदा कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय बांदा के प्रांगण में सम्पन्न क्षेत्रीय किसान मेले का दीप प्र्रज्जवलित कर शुभारम्भ करने के उपरान्त किसानों को सम्बोधित करते हुए व्यक्त किये। उन्होंने कहा कि छोटे किसान एफ0पी0ओ0 बनाकर खेती करें जिससे उनकी आमदनी बढ सकेगी। श्री शाही ने कहा कि नये कृषि कानूनों से किसानों को लाभ होगा। उन्होंने कहा कि भारत सरकार द्वारा स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट को लागू करते हुए एम0एस0पी0 डेढ गुना किया है जिससे किसानों की आमदनी बढी है।


कृषि मंत्री श्री शाही ने कहा कि बुन्देेलखण्ड क्षेत्र में सभी कृषि विज्ञान केन्द्रों पर सीड प्रोसेसिंग प्लांट स्थापित कराये गये हैं जिससे किसान अन्न के साथ-साथ उन्नति प्रजाति के बीजों का उत्पादन कर अपनी आमदनी बढा सकते हैं। उन्होंने कहा कि किसान गौ आधारित तथा जैविक खेती को अपनायें जिससे विभिन्न बीमारियों से बचा जा सके। श्री शाही ने कहा कि भारत सरकार तथा प्रदेश सरकार द्वारा किसानों की आमदनी बढाने के लिए प्रभावी प्रयास किये गये हैं जिससे किसानों का विश्वास बढा है। उन्होंने कहा कि ऋणमोचन योजना के अन्तर्गत चित्रकूट मण्डल के 01 लाख 67 हजार किसानों का 933 करोड़ रूपये का ऋण प्रदेश सरकार द्वारा माफ किया गया। इसी प्रकार चित्रकूटधाम मण्डल में 17 हजार से अधिक तालाब, खेत-तालाब योजना के अन्तर्गत खुदवाये गये हैं। उन्होंने किसानों से अपील की कि वे ‘‘वन ड्राप मोर क्राप’’ के सिद्धान्त को अपनायें तथा ऐसी प्रजातियों की खेती करें जिनमें कम सिंचाई से ही अधिक उत्पादन प्राप्त हो सके।


श्री शाही ने कहा कि चित्रकूटधाम मण्डल के किसानों को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के अन्तर्गत विगत 04 वर्षों में 1870 करोड़ रूपये किसानों को प्रदान किये गये हैं। उन्होंने किसानों से अपील की कि वे किसान मेले से उन्नति कृषि तकनीक की जानकारी कर इसे अपनायें जिससे उनका उत्पादन बढ सके। कृषि मंत्री ने कहा कि बुन्देलखण्ड क्षेत्र में पहली बार चना, सरसों इत्यादि की खरीद की गयी जिससे किसानों को लाभकारी मूल्य प्राप्त हो सका है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री जी देश को आत्मनिर्भर बनाने के लिए कार्य कर रहे हैं और उससे समाज के सभी वर्गों को लाभ प्राप्त हो रहा है। श्री शाही ने कहा कि प्रदेश के सभी विकास खण्डों में किसान कल्याण भवन बनाये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि जैविक खेती को बढावा देनेे के लिए सरकार द्वारा ढेंचा तथा जिप्सम पर अनुदान प्रदान किया जा रहा है। इसी के साथ ही कृषि यंत्रों पर भी सरकार द्वारा अनुदान दिया जा रहा है जिससे किसान कृषि यंत्रों का प्रयोग कर अपनी विभिन्न फसलों की लागत घटा सकते हैं। सांसद बांदा चित्रकूट  आर0के0सिंह पटेल ने कहा कि कृषि विश्वविद्यालय बुन्देलखण्ड के लिए वरदान साबित हो रहा है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार तथा प्रदेश सरकार किसानों की आमदनी को बढाने तथा खेती को उत्तम बनाने के लिए कार्य कर रही है जिससे खेती लाभदायक हो सके। श्री पटेल ने कहा कि सरकार द्वारा किसानों को लाभकारी मूल्य प्रदान किया गया है तथा प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना से उन्हें बहुत लाभ प्राप्त हो रहा है। उन्होंने कहा कि किसान खेती के साथ-साथ फल और सब्जी का भी उत्पादन करें जिससे उनकी आमदनी बढ सके। निदेशक कृषि डाॅ0 ए0पी0श्रीवास्तव ने अपने सम्बोधन में कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा बहुउद्देशीय तालाब की योजना शीघ्र प्रारम्भ की जायेगी जिसमें किसान मत्स्य पालन तथा सिंघाडे के उत्पादन के साथ-साथ मोती का भी उत्पादन कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि बुन्देलखण्ड क्षेत्र के किसानों को अधिक से अधिक सोलर पम्प प्रदेश सरकार द्वारा प्रदान कराये जायेंगे।  श्रीवास्तव ने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा इस क्षेत्र में चारा उत्पादन की योजना भी प्रारम्भ की जायेगी जिससे अधिक से अधिक चारा उत्पादन हो सके और अन्ना पशुओं की समस्या का हल हो सके।

कुलपति बांदा कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय डाॅ0 यू0एस0गौतम ने मंत्री जी का स्वागत करते हुए कहा कि क्षेत्रीय किसान मेले में सात प्रदेशों के किसान प्रतिभाग कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस मेले का उद्देश्य उन्नति कृषि-आत्म निर्भर भारत रखा गया है। डाॅ0 गौतम ने कहा कि विश्वविद्यालय द्वारा ऐसी प्रजातियों का विकास किया जा रहा है जो कम पानी में अधिक उत्पादन दें। उन्होंने कि विश्वविद्यालय द्वारा पी0एच0डी0 का पाठ्यक्रम भी प्रारम्भ कर दिया गया है तथा विश्वविद्यालय द्वारा 5500 कुन्तल उन्नति प्रजाति के बीजों का उत्पादन किया गया है। कुलपति डाॅ0 गौतम ने कहा कि विश्वविद्यालय द्वारा 100 गाॅवों को गोद लिया गया है तथा वहां के किसानों को उन्नति कृषि तकनीक की जानकारी दी जा रही है। कार्यक्रम के प्रारम्भ में विश्वविद्यालय के कुलसचिव आर0के0पवार ने अतिथियों का स्वागत किया। उपाध्यक्ष बुन्देलखण्ड विकास बोर्ड श्री अयोध्या सिंह पटेल, प्रबन्ध परिषद के सदस्य राजेश सिंह सेंगर ने भी अपने-अपने विचार व्यक्त किये। आयोजन सचिव डाॅ0 नरेन्द्र सिंह ने कार्यक्रम के अन्त में सभी अतिथियों तथा मेले में भाग लेने वाले किसानों का आभार व्यक्त किया। कृषि मंत्री  सूर्य प्रताप शाही ने फीता काटकर मेले का शुभारम्भ किया तथा मेले में लगाये गये स्टालों का स्वयं निरीक्षण किया। मेले में विश्वविद्यालय के साथ-साथ एन0आर0एल0एम0 द्वारा भी अपने स्टाल लगाये गये। क्षेत्रीय किसान मेले के शुभारम्भ के अवसर पर आयुक्त चित्रकूटधाम मण्डल  दिनेश कुमार सिंह, जिलाधिकारी बांदा  आनन्द कुमार सिंह, जिलाध्यक्ष भाजपा  रामकेश निषाद, प्रबन्ध परिषद के सदस्य  बलराम सिंह कछवाह, ममता मिश्रा, मुख्य विकास अधिकारी हरिश्चन्द्र वर्मा, संयुक्त निदेेशक कृषि उमेश चन्द्र कटियार तथा जनप्रतिनिधि, विभिन्न विभागों के अधिकारी व बडी संख्या में किसान उपस्थित रहे।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages