प्रशिक्षण का लाभ उठाते हुए स्थापित करें स्वरोजगार - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Wednesday, February 3, 2021

प्रशिक्षण का लाभ उठाते हुए स्थापित करें स्वरोजगार

कृषि उत्पादों का फसलोत्तर प्रबंधन और मूल्य संवर्धन प्रशिक्षण का समापन 

बांदा, के एस दुबे । बुंदेलखंड के किसानों की आय दोगुनी करने के लिए कृषि उत्पादों का फसलोत्तर प्रबंधन एवं मूल्य संवर्धन विषय पर आयोजित सात दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का उद्यान महाविद्यालय के सभागार में समापन हुआ। 

कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय में पोस्ट हार्वेस्ट टेक्नालाजी द्वारा आयोजित प्रशिक्षण का समापन हुआ। यह प्रशिक्षण कार्यक्रम भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद द्वारा अनुसूचित जाति उपयोजना के अन्र्तगत महिलाओं के लिए आयोजित किया गया था। इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में अनुसूचित जाति की 36 महिला प्रशिक्षणार्थियों ने सफलता पूर्वक प्रतिभाग किया। कार्यक्रम की संयोजक व विभागाध्यक्ष डा0 प्रिया अवस्थी ने मुख्य अतिथि एवं विशिष्ट अतिथि को पुष्प गुच्छ देकर स्वागत किया। समापन समारोह के मुख्य अतिथि डा0 एसवी द्विवेदी अधिष्ठाता उद्यान महाविद्यालय ने महिला कृषकों को संबोधित करते हुए कहा कि महिलाओं को आय दोगुनी करने के लिए फसलोत्तर प्रबंधन एवं मूल्य संवर्धन के क्षेत्र में आगे आना चाहिए। इस प्रशिक्षण कार्यक्रम का लाभ उठाते हुए स्वरोजगार स्थापित करना चाहिए। 

समापन कार्यक्रम में मौजूद प्रशिक्षणार्थी व अतिथिगण

इस कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि डा0 संजीव कुमार सह अधिष्ठाता वानिकी ने कहा कि यह कार्यक्रम ग्रामीण महिलाओं के लिए स्वावलंबी बनने की दिशा में एक सार्थक कदम है, जिससे वे आय अर्जन के साथ-साथ अपने परिवार के लिए पोषक खाद्य पदार्थो का निर्माण कर सकती हैं और आत्मनिर्भर भारत के सपने को साकार कर सकतीं है। प्रशिक्षण कार्यक्रम की समवन्यक डा0 विज्ञा मिश्रा, सहायक प्राध्यापक पोस्ट हार्वेस्ट टेक्नोलाजी विभाग ने सात दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का विवरण प्रस्तुत करते हुए बताया कि इस कार्यक्रम के दौरान विभिन्न कृषि उत्पादों जैसे आंवले का अचार, सब्जियों का मिश्रित अचार, संतरे का पेय, मशरूम पाउडर, पापड़, कैथे की चटनी, टमाटर की चटनी इत्यादि पर प्रयोगात्मक प्रशिक्षण प्रदान किया गया। साथ-साथ ही साथ प्रशिक्षणार्थियों को बिस्किट केक के निर्माण एवं शहद, दूध, औषधीय पौधों, मशरूम, बांस इत्यादि के फसलोत्तर प्रबंधन एवं मूल्य संवर्धन पर भी प्रशिक्षण दिया गया। उनको प्रसंस्कृत पदार्थाे की मार्केटिंग, स्वयं सहायता समूहों के गठन इत्यादि पर भी जानकारी दी गई। 

कार्यक्रम के अंत में सभी प्रशिक्षणार्थियों को प्रमाण-पत्र वितरित किये गये। कार्यक्रम के अंत में सह समवन्यक ई0 हर्षद मान्डगे ने सभी अतिथियों एवं प्रशिक्षणार्थियों, विशेषज्ञों एवं कार्यक्रम को सफल बनाने में सहयोगी सदस्यों एवं सभी कर्मचारियों एवं छात्र-छा़त्राओं का धन्यवाद व्यक्त किया। इस कार्यक्रम का संचालन डा0 निधिका ठाकुर ने किया। इस अवसर पर डा0 विशाल चुग, डा0 दिनेश गुप्ता, सद्दाम, युवा व्यवसायी लवलेश कुमार एवं उद्यान महाविद्यालय के समस्त कर्मचारी एवं छात्र-छात्राएं उपस्थित रहे। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages