पहले चरण के अंतिम दौर में 533 कर्मियों को लगा टीका - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Thursday, February 4, 2021

पहले चरण के अंतिम दौर में 533 कर्मियों को लगा टीका

आज दूसरे चरण के वैक्सीनेशन की होगी शुरूआत

फ्रंट लाइन वर्कर को किया जाएगा प्रतिरक्षित

अपर निदेशक ने खुद टीका लगवाकर कर्मियों से की अपील

बांदा, के एस दुबे । कोरोना से बचाव के लिए 16 जनवरी से शुरू हुए टीकाकरण के पहले चरण के अंतिम दौर में दोपहर शाम चार बजे तक 533 हेल्थ केयर वर्कर्स ने टीकाकरण करवाया। पहले चरण में 6168 स्वास्थ्य कर्मियों को प्रतिरक्षित करने का लक्ष्य था। जिसके सापेक्ष 3330 कर्मियों ने टीका लगवाया है। शुक्रवार (5 फरवरी) को दूसरे चरण की शुरूआत होगी। जिसमें फ्रंटलाइन वर्कर्स को प्रतिरक्षित किया जाएगा। अपर निदेशक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य डा.आरबी गौतम ने टीका लगवाकर  सभी कर्मियों से टीका लगवाने की अपील की है।

बड़ोखर खुर्द स्वास्थ्य केंद्र में निरीक्षण करते सीएमओ डा.एनडी शर्मा।

पहले चरण के अब तक हुए तीनों दौर की तर्ज पर बृहस्पतिवार को पांचवें दौर में भी चिकित्साकर्मियों का टीकाकरण किया गया। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा.एनडी शर्मा बड़ोखर खुर्द केंद्र का निरीक्षण किया। उन्होंने बताया कि अब तक जिले में 3330 स्वास्थ्य कर्मियों को कोरोना से बचाव के लिए टीका लगाया जा चुका है। बृहस्पतिवार को जिले में छह स्थानों पर सात सत्रों में टीकाकरण किया गया। बबेरू में 120, जसपुरा  में 119, मेडिकल कालेज में 127, बड़ोखर खुर्द में दो सत्रों में 185, कमासिन में 110 व तिंदवारी में 100 कर्मियों को टीकाकरण के लिए लक्षित किया गया है। सीएमओ ने कहा कि 16 जनवरी से अब तक जो भी स्वास्थ्य कर्मी टीकाकरण से छूट गए हैं वह भी पांच फरवरी को टीकाकरण करवा सकते हैं। इसके बाद भी पहला चरण के छूटे हुए कर्मियों को प्रतिरक्षित करने के लिए मापअप राउंड चलाया जाएगा। जिसकी रणनीति अभी तैयार नहीं की गई है। 

पौष्टिक आहार लेकर कोरोना को हराया

बांदा। कोरोना संक्रमण को पौष्टिक एवं संतुलित आहार लेकर तथा चिकित्सकों के परामर्श पर नियमित दवाइयां लेकर हराया। ठंडे  खाद्य पदार्थो से परहेज कर और गुनगुना पानी पिया । नियमित योग और व्यायाम किया। इन उपायों से कोरोना संक्रमण को मात दी। कोरोना से जंग जीत चुके अपर निदेशक डा.आरबी गौतम ने यह बात कही। वैक्सीनेशन करवाने के बाद उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण होने पर उसके प्रति लापरवाही जानलेवा हो सकती है। पिछले माह उन्हें बुखार और खांसी की शिकायत हुई। चिकित्सक के परामर्श पर कोरोना परीक्षण कराया तो रिपोर्ट पाजिटिव आई। चिकित्सकों की टीम ने उन्हें आइसोलेट कर दिया। चिकित्सकों ने नियमित रूप से दवाई लेने और खानपान पर विशेष ध्यान रखने की सलाह दी। उन्होंने चिकित्सक द्वारा दी गई सलाह का अमल किया और एक अवधि के बाद स्वस्थ हो गए।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages