तीसरी साल गिरह को संविधान चर्चा दिवस के रूप में मनाया - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Sunday, January 3, 2021

तीसरी साल गिरह को संविधान चर्चा दिवस के रूप में मनाया

समाजवादी और पंथ निरपेक्ष शब्द की प्रस्ताव कापी का हुआ वितरण 

बांदा, के एस दुबे । 42वां संविधान संशोधन में जोड़े गए शब्द समाजवादी और पंथनिरपेक्ष के संविधान में शामिल किए जाने के बाद तीन जनवरी को लागू होने पर रविवार को सालगिरह को संविधान चर्चा दिवस के रूप में मनाया गया। 1976 में 42वां संविधान में संशोधन करके जोड़े गए समाजवादी और पंथनिरपेक्ष शब्द की प्रस्ताव कापी का वितरण भी किया गया। शहर के अलीगंज, खूंटी चैराहा, छावनी, गूलरनाका, ईदगाह रोड, स्टेशन व ग्राम मसौनी, कालिंजर, तिंदवारा, सादी मदनपुर, हड़हा, कबौली गांव में किया गया।

प्रस्ताव कापी वितरित करते कांग्रेस जिलाध्यक्ष राजेश दीक्षित

अल्पसंख्यक विभाग चेयरमैन अफसर अली ने कहा कि 42वां संविधान संशोधन पर जोड़े गए शब्दों को समाजवादी और पंथनिरपेक्ष शब्दों को भाजपा सरकार किसी भी तरह से हटा देना चाहती है। क्योंकि उनकी कल्पना के धर्म आधारित राष्ट्र बनने में सबसे बड़ी बाधा यही शब्द है। प्रदेश सचिव सैयद अल्तमश हुसैन ने कहा कि जिस तरह से केंद्र में भाजपा सरकार ने ट्रिपल तलाक, सीए एनआरसी, किसान विरोधी बिल को तानाशाही के चलते पास कर लिया है। वह दिन भी दूर नहीं जब संविधान में संशोधन करके समाजवादी पंथनिरपेक्ष शब्दों को हटाने का कार्य केन्द्र सरकार करेगी। हम सबको अपने अधिकारों को बचाने के लिए सजग होना पड़ेगा। कार्यक्रम में कांग्रेस जिलाध्यक्ष राजेश दीक्षित, शहर अध्यक्ष अल्पसंख्यक वहीद अहमद, इरफान खान, शादाब हुसैन, शब्बीर सौदागर, हाजी जमील, निजाम शाह, नाथूराम सेन, राजू भैया, मोहम्मद सोहेल, कल्लू बेगम, अनिल, राजेश गुप्ता, ओमप्रकाश तिवारी आदि लोग शामिल रहे। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages