दी के शव के सामने बिलख रहे तीन बच्चे हुए अनाथ - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Tuesday, January 19, 2021

दी के शव के सामने बिलख रहे तीन बच्चे हुए अनाथ

 तीन दिनों से पुत्र जेल से नहीं आ पाया पैरोल पर जिससे शव रखा है पुत्र के इन्तजार में 

मौदहा (हमीरपुर) हरीशंकर गुप्ता -   बाबा दादी का साया छिन  गया पिता लखनऊ जेल में आजीवन कारावास में है दादी का शव रविवार से रखा है अन्तिम संस्कार के लिए एक लड़की दो लड़के जिनकी ऊम्र 7 वर्ष से 12 वर्ष तक की है पूरे घर में मात्र तीन अकेले बच्चे ही बचे है जो बेचारे बिन माँ बाप के बिलख रहे है इसके वावजूद भी लखनऊ जेल में सजा काट रहे पुत्र सन्दीप उर्फ़ प्रेम बाबू को मंगलवार तक नहीं आ पाया  जिससे मां का अन्तिम संस्कार नहीं हो सका  उक्त मामला मौदहा नगर के मालीकुआं चौराहा स्थित हनुमान कुटिया के निकट की है जंहा  रविवार को सायं ऊषा गुप्ता पत्नी रामबाबू गुप्ता रिटायर अध्यापक 68 वर्षीय की मौत हो गयी इसके तीन माह पूर्व पति रामबाबू  की मौत हो गयी थी जिसका दुःख  अभी तक ख़तम भी नहीं हो पाया था की पत्नी भी चली गयी मगर यह दोनों अपने नाती व नातिन को बिलखता छोड़ गए मृतका का पुत्र सन्दीप गुप्ता सन 14 में पत्नी के भाग जाने पर


उसकी हत्या करने के लिए लखनऊ गया था अपनी पत्नी का लिवास देख उसने दूसरी महिला को मौत के घाट उतार दिया था जिसे लखनऊ में पुलिस ने गिरफ्तार कर इस मामले में वर्ष 18 में आजीवन कारावास की सजा हो गयी वह लखनऊ में सजा काट रहा है वही माँ के निधन की खबर पर उसने पैरोल पर छोड़े जाने की फरियाद लगाई है जिसमे बुधवार को पैरोल पर छोड़े जाने की खबर सूत्रों द्धारा बताई जा रही है हो सकता है की मृतका का अन्तिम संस्कार बुधवार को हो जाये इस घटना को देख लोगों के आँखों में आंसू आ रहे है की इन मासूमो ने क्या बिगाड़ा था की यह अब अनाथो की तरह है इनका कौन करेगा भरण पोषण यह एक बड़ा सवाल बन गया है 

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages