रामकथा के पांचवें दिन हुआ राम-सीता का विवाह - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Wednesday, January 6, 2021

रामकथा के पांचवें दिन हुआ राम-सीता का विवाह

चित्रकूट सिरसा आश्रम से आई निशी दीदी ने किया मार्मिक चित्रण 

जसपुरा, के एस दुबे । कस्बे के ज्योति माता मंदिर के प्रंगाण में चल रही रामकथा के पांचवें दिन बुधवार को चित्रकूट के सिरसा आश्रम से आई निशी दीदी ने राम विवाह का मार्मिक वर्णन किया। कथा में निशी दीदी ने बताया कि मार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष की पंचमी को राम का विवाहोत्सव बड़े धूमधाम से मनाया जाता है। उन्होंने बताया कि त्रेता युग में पृथ्वी पर राक्षसों का अत्याचार अपने चरम पर था। उस समय मुनी विश्वामित्र अपने यज्ञ की रक्षा करने के

कथा का बखान करतीं निशी दीदी

उद्देश्य से अयोध्या के राजा दशरथ से उनके पुत्रों राम व लक्ष्मण को मांग कर ले गए। यज्ञ की समाप्ति के बाद विश्वामित्र को जनकपुरी के रास्ते से वापसी आने के समय जनक की पुत्री सीता के स्वयंवर की जानकारी मिली। मुनी जी राम व लक्षमण को लेकर स्वयंवर में पहुंचे। सीता स्वयंवर में राजा जनक ने घोषणा की कि जो भी योद्धा शिवजी के धनुष को तोड़ देगा उसके साथ सीता का विवाह कर दिया जाएगा। स्वयंवर में राजा महाराजाओं के परिचय देने के समय पर कथा सुनने वाले ठहाका लगाए बगैर ना रह सके। कथा सुनाते हुए कथा वाचक ने भक्तों
मौजूद श्रोतागण

को हंसते-हंसते जहां लोट पोट किया। वहीं राम की शादी पर महिला भक्तों ने जमकर ठुमके लगाए। कथा में यजमान अमित सिंह रहे। कार्यक्रम के दौरान तबला वादक अनिकेत नामदेव, आर्गन मास्टर करण नामदेव पैड मास्टर विमलेश कुमार कार्यक्रम संचालक दीपक सिंह, कार्यक्रम में सहयोगी देवेश कुमार मोनू, देवा त्रिपाठी मंडल अध्यक्ष भाजपा तिंदवारी, राजेश साहू, अंशु गुप्ता, शिवम सिंह, सुरेश सिंह, दीपक सिंह, राजबहादुर नामदेव, अमरजीत, जनसेवक लाला नामदेव, संतोष नामदेव सहित क्षेत्र के सैकड़ों महिलाएं व पुरुष उपस्थित रहे।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages