जगदगुरु कराएगें श्रीराम कथा का रसपान - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Monday, January 11, 2021

जगदगुरु कराएगें श्रीराम कथा का रसपान

14 जनवरी को जन्मदिन अवसर पर कलाकार मनोज तिवारी व पवन तिवारी करेंगें शिरकत

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। जगद्गुरू रामानन्दाचार्य स्वामी रामभद्राचार्य महाराज मंगलवार से धर्मनगरी में श्रद्धालुओं को श्रीराम कथा का रसपान कराएंगे। जिसके लिए सभी तैयारियां पूरी कर ली गयी हैं। 

तुलसीपीठाधीष्वर जगद्गुरू रामभद्राचार्य के उत्तराधिकारी युवराज रामचन्द्र दास ने सोमवार को पत्रकारों से कहा कि जगद्गुरू रामभद्राचार्य महाराज सेवा त्रीवेणी बहा रहे हैं। जिसमें पहला केन्द्र तुलसीपीठ, दूसरा जेआरएचयू और तीसरा प्रज्ञाचक्षु विद्यालय है। इस वर्ष माघ माह में त्रिवेणी की अमृत मय श्रीराम कथा की वर्षा जगद्गुरू बुधवार से करने जा रहे हैं। पूर्व में भी अलग-अलग स्थानों पर जगद्गुरू का जन्मोत्सव मनाया जाता था, किन्तु चित्रकूट में जगद्गुरू के जन्मोत्सव मनाने का संयोग आगामी 14 जनवरी को 11 साल बाद होने जा रहा है। इसके पूर्व 2010 में अनुष्ठान पूरा होने पर यह अवसर प्राप्त हुआ था। कामतानाथ की तलहटी पर स्थित सबसे प्राचीन प्रज्ञाचक्षु विद्यालय में प्रतिदिन 10 से दोपहर 1ः30 बजे तक कथा चलेगी। 14 जनवरी को जगद्गुरू के

जानकारी देते आचार्य रामचन्द्र दास, कुलपति।

जन्मदिन के अवसर पर विषेष आयोजन होने हैं। जिसमें कलाकार मनोज तिवारी और पवन तिवारी समेत कई संत भी आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि जगद्गुरू की सेवा त्रिवेणी का लाभ देष भर के दिव्यांग ले रहे हैं। ऐसे मे ंचित्रकूट और जनपदवासियों को इस अवसर का लाभ उठाते हुए कोरोना के कारण मिली मानसिक चिंता से मुक्त होने के लिए कथा का श्रवण करना चाहिए। जेआरएचयू के कुलपति योगेष कुमार दुबे ने कहा कि जगद्गुरू रामभद्राचार्य महाराज ने न केवल चित्रकूट, प्रदेष और देष के लिए काम किया है, अपितु सम्पूर्ण विष्व के लिए विष्वव्यापी कार्य किया है। उनके 72वंे जन्मदिवस पर श्रीराम कथा पावन कामदगिरि क्षेत्र में श्रद्धालुओं को सुनने को मिलेगी। प्रति वर्ष चैत्र के प्रतिपदा में राम कथा होती है, किन्तु इस बार की राम कथा कामदगिरि क्षेत्र में होने के कारण और ज्यादा महत्वपूर्ण हो गयी है। इस मौके पर कुलसचिव आरपी मिश्र, सूचना एवं जनसम्पर्क अधिकारी एसपी मिश्रा, सुरक्षा अधिकारी मनोज पाण्डेय आदि मौजूद रहे। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages