एनजीटी के तहत संचालित हों होटल: डीएम - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Friday, January 29, 2021

एनजीटी के तहत संचालित हों होटल: डीएम

संचालको से किश्तवार जुर्माना वसूलने के दिए निर्देश

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। जिलाधिकारी शेषमणि पाण्डेय की अध्यक्षता में राष्ट्रीय हरित अभिकरण एनजीटी के संबंध में बैठक का आयोजन होटल संचालकों तथा संबंधित अधिकारियों के साथ कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में संपन्न हुआ।

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी घनश्याम ने बताया कि जल प्रदूषण नियंत्रण के संबंध में कुल 23 होटल हैं। जिसमें नौ होटल ऐसे हैं जिन्हें औद्योगिक उत्प्रवास शुद्धीकरण संयंत्र की स्थापना, कमरों की संख्या के अनुसार अनिवार्य है। ईटीपी की स्थापना सुनिश्चित की जाए। जिलाधिकारी ने सभी होटल संचालकों से कहा कि तीन दिन के अंदर सभी व्यवस्थाएं सुनिश्चित कराएं। ताकि एनजीटी को रिपोर्ट प्रस्तुत की जा सके। उन्होंने कहा कि होटल्स, वैकटहाल्स आदि की स्थापना के बाद जल प्रदूषण निवारण एवं नियंत्रण अधिनियम 1974 के अंतर्गत संचालन के लिए सहमति जल प्राप्त कराने की व्यवस्था की जाए। नमूना एकत्र कर क्षेत्रीय कार्यालय बांदा द्वारा किया जाएगा एवं बोर्ड से मान्यता प्राप्त प्रयोगशाला से रिपोर्ट प्राप्त करना आदि सम्मिलित किया जाना अनिवार्य है। वायु प्रदूषण नियंत्रण के संबंध में कहा कि सभी होटल्स में एयर पॉल्यूशंस कंट्रोल डिवाइस सिस्टम संयंत्र की

बैठक में निर्देश देते डीएम।

स्थापना कराएं। रसोई से जनित धुआं के निस्तारण को चिमनी की स्थापना की जाए। ध्वनि प्रदूषण नियंत्रण जनरेटर सेट व डीजी सेट एकॉस्टिक एंक्लोजर सहित कराएं। प्लास्टिक रूल्स 2007 के संबंध में कहा कि प्लास्टिक कैरी बैग के प्रयोग में वर्जित है। प्लास्टिक रिसाईकलर के माध्यम से कराया जाए। उन्होंने होटल संचालकों से यह भी कहा कि तीर्थ क्षेत्र में जो विकास कार्य कराए गए उनका प्रचार प्रसार करें। मां मंदाकिनी गंगा की जो आरती रामघाट में की जा रही है। सभी होटल संचालक अपने पोस्टर, बैनर लगाकर कार्यक्रम कराएं। ताकि होटल का भी प्रचार-प्रसार हो सके। कहां कि हवाईपट्टी का संचालन जिस दिन से चालू हो जाएगा तो बाहर से काफी पर्यटक आएंगे। जिसमें होटलों पर अच्छी व्यवस्था सुनिश्चित कर लें। ताकि होटलों में पर्यटक ठहरेंगे तो आय बढ़ेगी। उन्होंने उप जिलाधिकारी कर्वी से कहा कि जो नए होटलों का निर्माण हो रहा है उन्हें विकास प्राधिकरण से एनओसी अवश्य जारी कराई जाए। उन्होंने अधिशासी अधिकारियों से कहा कि जो अपशिष्ट प्रबंधन के लिए भूमि चिन्हित की गई है उसके प्रस्ताव की एक प्रति क्षेत्रीय नियंत्रण बोर्ड को दिया जाए। सीवर सिस्टम कर्वी, राजापुर व मानिकपुर के लिए भी प्रस्ताव बनाकर शासन को भेजें। ताकि यहां पर भी व्यवस्था कराई जा सके। अपर जिलाधिकारी से कहा कि जल निगम, जल संस्थान, अधिशासी अधिकारी कर्वी की कमेटी उप जिलाधिकारी कर्वी की अध्यक्षता में गठित कर जो मां मंदाकिनी में गिरने वाले नालों के टैपिंग का शासन को पत्र भेजा गया है उसका अनुपालन सुनिश्चित कराया जाए। जिलाधिकारी ने प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी को निर्देश दिए कि जिन होटल संचालकों का जुर्माना किया गया है उसमें होटल संचालकों से किश्तवार समय से धनराशि जमा कराई जाए। किसी होटल संचालकों का उत्पीड़न नहीं होना चाहिए। होटल संचालकों से कहा कि भूगर्भ जल को बढ़ावा देने के लिए रेन वाटर हार्वेस्टिंग के कार्य जिन होटलों पर नहीं किए गए हैं वहां पर तत्काल करा लिया जाए तथा जिन होटलों पर बनाए गए हैं उसकी सूचना भी उपलब्ध कराएं। उन्होंने संबंधित अधिकारियों तथा होटल संचालकों से कहा कि जो एनजीटी से निर्देश दिए गए हैं उसका अनुपालन शत प्रतिशत सुनिश्चित कराएं। बैठक में अपर जिलाधिकारी जीपी सिंह, अपर उप जिलाधिकारी राजबहादुर, उप जिला अधिकारी कर्वी राम प्रकाश, अधिशासी अधिकारी नगर पालिका परिषद कर्वी नरेंद्र मोहन मिश्र, मानिकपुर राम आशीष वर्मा, अधिशासी अभियंता जल संस्थान एसके मिश्रा सहित संबंधित अधिकारी, होटल संचालक कुणाल प्रताप सिंह, अरुण गुप्ता, विशाल अग्रवाल सहित अन्य लोग मौजूद रहे।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages