पुरातन छात्रों की मेहनत से विद्यालय का गौरव बढ़ा: शिवबली - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Wednesday, January 13, 2021

पुरातन छात्रों की मेहनत से विद्यालय का गौरव बढ़ा: शिवबली

30 साल पुराने छात्र जब अपने गुरूजनों से मिले तो छलक पड़ी आंखें

सरस्वती विद्या मन्दिर की पुरातन छात्र परिषद ने कराया सम्मेलन

बांदा, के एस दुबे । पुरातन छात्र परिषद की ओर से सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कालेज में पुरातन छात्र सम्मेलन का आयोजन किया गया। विवेकानंद जयंती पर आयोजित सम्मेलन में अतिथियों ने कहा कि पुरातन छात्रों की मेहनत से ही विद्यालय का गौरव बढ़ा है। 

पूर्व प्रधानाचार्य शिवबली सिंह ने उस समय का उदाहरण देते हुए अपनी बात कही जब विद्यालय सबसे पहले शहर के झंडा चैराहे पर स्थित था। उन्होंने बताया कि उस समय न खेल का मैदान था और न कक्षाओं में पंखे लगे थे। उसी दौरान एक डाक्टर अपने बच्चे का एडमिशन कराने आए थे। लेकिन कक्षा में पंखा तक न होने से वापस लौट गए थे। लेकिन अगले ही दिन फिर लौट कर आए और कहा कि उन्होंने बहुत जगह पता किया और इस नतीजे पर पहुंचे कि यही विद्यालय सर्वश्रेष्ठ है। लेकिन उन्होंने उन डाक्टर से कहा कि आप चाहें तो आप अपने बच्चे की कक्षा में पंखा लगवा दें। कुछ ऐसे कठिन परिश्रमों और एक एक सीढ़ी चढ़ते हुए आज यह विद्यालय जो कुछ भी मुकाम हासिल कर पाया है, उसमें यहां के पुरातन छात्रों व उनके परिजनों का पूरा सहयोग है। 

पुरातन छात्र सम्मेलन में शामिल शिक्षक, छात्र व अन्य

कार्यक्रम का शुभारम्भ अपने तय समय पर मां सरस्वती की वंदना से हुआ, तत्पश्चात अतिथियों का बैज अलंकरण सम्मान के बाद पुरातन छात्रों और विद्यालय के बीच संवाद कड़ी के रूप में प्रधानाचार्य अतुल बाजपेई ने इस कार्यक्रम की रूपरेखा सामने रखी। विद्यालय समिति के अध्यक्ष संतोष कुमार सिंह एवं प्रबन्धक विजय ओमर ने भी पूर्व छात्रों को धन्यवाद देते हुए परिषद के कार्यों की सराहना की। पुरातन छात्र परिषद के अध्यक्ष आशुतोष त्रिपाठी ने पुरातन छात्र परिषद के गठन व उद्देश्यों के बारे में विस्तार से बताया। परिषद द्वारा प्रत्येक वर्ष 12 जनवरी को यह कार्यक्रम आयोजित किया जायेगा। परिषद के सदस्य व कार्यक्रम का संचालन कर रहे श्याम निगम ने बताया कि पुरातन छात्र परिषद की एक वेबसाइट भी बनाई जायेगी।  जिसमें परिषद की समस्त जानकारियों को समय-समय पर समाहित किया जायेगा। इस वेबसाइट के रखरखाव व संचालन से सम्बन्धित सभी खर्चों इत्यादि को परिषद के सदस्य सचिन चतुर्वेदी व अभिषेक सिंह द्वारा किया जायेगा। पुरातन छात्र दिनेश कुमार दीक्षित ने अपने संस्मरण सुनाते हुए परिषद को 51 हजार रुपयों की सहायता देने की भी बात कही जबकि निखिल सक्सेना ने भी अपने संस्मरण सुनाए और 11 हजार रुपये की सहायता परिषद को देने की बात की। इसके अलावा विधु त्रिपाठी, अभिषेक मिश्रा, संजय निगम, निखिल सक्सेना, दिनेश कुमार दीक्षित, मनीष गुप्ता, मनोज पुरवार, सीएल उपाध्याय ने अपने अपने संस्मरणों को सभी के समक्ष रखा। मंच पर बैठे अतिथि व सामने बैठे पुरातन छात्र कभी इन संस्मरणों पर हंसते तो कभी भावुक हो उठते। कार्यक्रम में परिचय सत्र के दौरान प्रमोद जैन, डा. रामेन्द्र गुप्ता, कृष्णा सिंह, अभिषेक सिंह, सचिन चतुर्वेदी, संजय सिंह एडवोकेट, बलराम सिंह कछवाह, अभिषेक शुक्ला चुन्नू, पंकज गुप्ता, आलोक सेठ, अमितेश अग्रवाल, शत्रुघ्न दुबे, प्रद्युम्न तिवारी, अनुराग चंदेरिया, रोहित साहू, मुदित सिंह, प्रवीण चैरसिया, शिव कुमार सिंह, राकेश कुमार शुक्ला आदि ने अपना परिचय देते हुए आपसी संवाद किया। कार्यक्रम में संत कुमार गुप्ता सहित विद्यालय के आचार्य भी उपस्थित रहे। कार्यक्रम के समापन पर एक स्वर में वन्दे मातरम सस्वर गाया। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages