काले कानून के विरोध में किसानों ने जाम किया हाइवे - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Tuesday, December 1, 2020

काले कानून के विरोध में किसानों ने जाम किया हाइवे

एक घंटे तक जाम में फंसे रहे वाहन और तमाम लोग  

बांदा, के एस दुबे । किसानों का हिमायती बुंदेलखंड किसान यूनियन किसानों की हर समस्या को लेकर अक्सर धरना प्रदर्शन और आंदोलन करता रहता है। सोमवार को केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीन कृषि विधेयक काला कानून पारित करने पर बुंदेलखंड किसान यूनियन राष्ट्रीय अध्यक्ष विमल कुमार शर्मा की अगुवाई में झांसी-मिर्जापुर राष्ट्रीय राजमार्ग एक घंटे से अधिक तक जाम रहा। उपस्थित अधिकारियों मूकदर्शक बने रहे। लगे जाम से दोनों तरफ के दर्जनों वाहन फंसे गये। उप जिलाधिकारी के बहुत समझाने-बुझाने पर ज्ञापन देकर सरकार विरोधी नारे लगाते हुए किसानों ने चक्का जाम समाप्त किया। 

हाइवे पर जाम लगाए बुंदेलखंड किसान यूनियन के पदाधिकारीगण

बुंकियू राष्ट्रीय अध्यक्ष विमल कुमार शर्मा की अगुवाई में मंडी समिति अतर्रा के सामने राष्ट्रीय राजमार्ग को यूनियन के दर्जनों पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं तथा किसानों ने सरकार विरोधी नारे लगाते हुए जाम कर दिया। केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीन कृषि विधेयक काला कानून पारित करने पर हंगामा करते हुए राष्ट्रीय राजमार्ग को एक घंटे से अधिक तक जाम रखा। राष्ट्रीय अध्यक्ष विमल शर्मा ने बुंदेलखंड किसान यूनियन के हजारों किसानों के जत्थे के साथ दिल्ली पहुंचकर निर्णायक जंग में शामिल होने का ऐलान किया। उन्होंने कहा कि किसान इस काले कानून के वापस होने तक चुप नहीं बैठेंगे। स्थानीय समस्याओं को लेकर भी उपजिलाधिकारी को उन्होंने पत्र सौंपा। ज्ञापन उप जिलाधिकारी जेपी यादव को दिया गया। चक्का जाम में राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रहलाद करवरिया, रामपूजन मिश्रा, अमर सिंह राठौर, उमा सिंह बुन्देलखण्डी, महिला जिलाध्यक्ष अनूपा सिंह, मोतीलाल, विष्णु त्रिपाठी, राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष राकेश साहू, सचिव अखिलेश रावत, बाला जी, पप्पू दुबे, राधाकृष्ण शुक्ल, हरिओम शर्मा, अरुण यादव, गणेश प्रसाद, विशाल गुप्ता, राजा मनीष तिवारी आदि किसान यूनियन के सदस्य व पदाधिकारी मौजूद रहे। क्षेत्राधिकारी तथा अतर्रा, बदौसा तथा फतेहगंज थाना प्रभारी पुलिस बल के साथ मौजूद रहे।

 

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages